blogid : 26149 postid : 902

फेसबुक पर ये 7 काम करने पर हो सकती है सजा, पोस्ट करते हुए रखें सावधानी

Posted On: 26 Jan, 2019 Others में

Pratima Jaiswal

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

128 Posts

1 Comment

सोचिए, आपके दोस्त का जन्मदिन है और आपने उसे सरप्राइज देने के लिए उसकी फोटो को क्रोप करके किसी मशहूर एक्ट्रेस के साथ लगाकर फेसबुक पर शेयर कर दी. इससे आपका दोस्त जरूर खुश हो जाएंगा. लेकिन अनजाने में आपका ये छोटा-सा मजाक साइबर क्राइम के दायरे में आ गया है जिसके लिए आपको सजा भी हो सकती है. पिछले कुछ समय से फेसबुक कंटेट पॉलिसी और फेक न्यूज को लेकर बेहद सख्त रवैया अपना रहा है. आप सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको इन बातों की जानकारी होनी चाहिए.  आइए हम आपको बताते हैं सोशल साइट्स पर कौन-सी चीजें आपको मुश्किल में डाल सकती हैं.

 

 

 

आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल

कोई शख्स सोशल साइट या नेट के जरिये किसी के लिए आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल करता है, अश्लीलता फैलाता है, अश्लील भाषा का इस्तेमाल करता है, गालियां देता है या ऐसी बातें करता है जिससे किसी को पीड़ा पहुंची हो, तो उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 294 लगाई जा सकती है.

सजा : ऐसे मामले में अपराध साबित होने पर 3 महीने तक सजा हो सकती है.

 

 

 

धार्मिक भावनाएं भड़काना

अगर कोई शख्स जानबूझकर किसी की धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाता है, किसी धर्म के बारे में आपत्तिजनक बातें लिखता है या धार्मिक चिह्नों का अपमान करता है, तो ऐसे मामले में आईपीसी की धारा 295ए के तहत मुकदमा दर्ज हो सकता है.

सजा : दोषी पाए जाने पर 3 साल कैद का प्रावधान है.

 

किसी के सम्मान को ठेस पहुंचाना

अगर कॉन्टेंट में किसी व्यक्ति विशेष के खिलाफ मानहानि से संबंधित बातें हों, यानी किसी शख्स को कोई गाली दे या ऐसी बात करे, जिससे उसके मान-सम्मान को ठेस पहुंची हो, तो आईपीसी की धारा 499 और 500 के तहत शिकायत दर्ज की जा सकती है.

सजा : मामला साबित होने पर 2 साल की कैद हो सकती है.

 

देश के खिलाफ लिखना

अगर किसी कॉन्टेंट में देश के खिलाफ बात हो, देश की एकता और अखंडता को चोट पहुंचाई गई हो, देशद्रोह की बात हो या देश की संप्रभुता को चुनौती देने वाली बातें लिखी गई हों, तो आईपीसी की धारा 124 ए के तहत मुकदमा दायर हो सकता है.

सजा : इस मामले में उम्र कैद तक का प्रावधान है.

 

Cybercrime unique

 

 

किसी संप्रदाय के खिलाफ लिखना

अगर किसी इलाके विशेष या संप्रदाय विशेष के लोगों के खिलाफ द्वेष से भरी बातें लिखी गई हों, यानी किसी इलाके विशेष के लोगों पर रंग और जात-पात के नाम पर ताना दिया जाए, तो आईपीसी की धारा 153 ए के तहत मुकदमा हो सकता है.

सजा : इसमें 3 साल की सजा का प्रावधान है.

 

 

अफवाहें फैलाना

ऐसा कॉन्टेंट लिखना, जिसमें जानबूझकर अफवाह फैलाकर भावनाएं भड़काने की कोशिश की गई हो, आईपीसी की धारा 505 के तहत अपराध है.

सजा : इसमें 3 साल की कैद हो सकती है.

 

 

 

जान से मारने की धमकी

ऐसा कॉन्टेंट, जिसमें किसी को जान से मारने की धमकी दी जा रही हो, उसे पोस्ट करने वाले पर आईपीसी की धारा 506 के तहत केस दर्ज हो सकता है.

सजा : मामला साबित होने पर 7 साल तक कैद की सजा हो सकती है…Next

Read More :

अंतरिक्ष में एस्ट्रोजनॉट ने इस तरह की पिज्जा पार्टी, ऐसे बनाया झटपट पिज्जा

20 घर, 700 कार और 58 एयरक्राफ्ट के मालिक रूस के राष्ट्रपति पुतिन, खतरनाक स्टंट करने के हैं शौकीन

1.23 अरब रुपये की है दुनिया की यह सबसे महंगी लग्जरी सैंडिल, इसके आगे कीमती ज्वैलरी भी फेल

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग