blogid : 26149 postid : 1203

गुरुनानक देव ने इस वजह से की थी मक्का की यात्रा, 28 हजार किलोमीटर लंबी यात्रा में 60 शहरों का किया था भ्रमण

Posted On: 15 Apr, 2019 Others में

Pratima Jaiswal

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

163 Posts

1 Comment

‘संसार को जीतने से पहले स्वयं अपने विकारों और बुराईयों पर विजय प्राप्त करना बेहद जरूरी है।’ गुरुनानक देव के ऐसे ही विचार आज भी प्रासगिंक है। जिनपर चलकर अपनी मंजिल को पाया जा सकता है। गुरु नानक देव ने अपने शिष्य मरदाना के साथ करीब 28 वर्षों में दो उपमहाद्वीपों में पांच प्रमुख पैदल यात्राएं की थीं, जिन्हें उदासी कहा जाता है। इन 28 हजार किलोमीटर लंबी यात्राओं में गुरु नानक ने करीब 60 शहरों का भ्रमण किया। अपनी चौथी उदासी में गुरु नानक ने मक्का की यात्रा की। उन्होंने हाजी का भेष धारण किया और अपने शिष्यों के साथ मक्का पहुंच गए।

 

 

गुरू नानक की मक्का यात्रा
गुरु नानक की मक्का यात्रा का विवरण कई ग्रन्थों और ऐतिहासिक किताबों में मिलता है। ‘बाबा नानक शाह फकीर’ में हाजी ताजुद्दीन नक्शबन्दी ने लिखा है कि वह गुरु नानक से हज यात्रा के दौरान ईरान में मिले थे। जैन-उ-लबदीन की लिखी ‘तारीख अरब ख्वाजा’ में भी गुरु नानक की मक्का यात्रा का जिक्र किया है। उन्होंने नानक और रुकुद्दीन के बीच संवाद का उल्लेख भी किया है। हिस्ट्री ऑफ पंजाब, हिस्ट्री ऑफ सिख, वारभाई गुरदास और सौ साखी, जन्मसाखी में भी नानक की मक्का यात्रा का जिक्र किया गया है।

 

 

ईश्वर चारों दिशाओं में हैं, गुरुनानक ने ऐसे दी सीख
गुरु नानक जी का एक मुस्लिम शिष्य मरदाना था। मरदाना ने गुरु नानक से कहा कि उसे मक्का जाना है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि जब तक एक मुसलमान मक्का नहीं जाता तब तक वह सच्चा मुसलमान नहीं कहलाता है। गुरु नानक ने यह बात सुनी तो वह उसे साथ लेकर मक्का के लिए निकल पड़े। गुरु जी मक्का पहुंचे तो वह थक गए थे और वहां पर हाजियों के लिए एक आरामगाह बनी हुई थी तो गुरु जी मक्का की तरफ पैर करके लेट गए। हाजियों की सेवा करने वाला खातिम जिसका नाम जियोन था, वह यह देखकर बहुत गुस्सा हुआ और गुरु जी से बोला, क्या तुमको दिखता नहीं है कि तुम मक्का मदीना की तरफ पैर करके लेटे हो। तब गुरु नानक ने कहा कि वह बहुत थके हुए हैं और आराम करना चाहते हैं। उन्होंने जियोन से कहा कि जिस तरफ खुदा ना हो उसी तरफ उनके पैर कर दे। तब जियोन को गुरुनानक की बात समझ में आ गई कि खुदा केवल एक दिशा में नहीं बल्कि हर दिशा में है।
इस तरह गुरुनानक एक संदेश दिया कि ईश्वर हर जगह है।…Next 

 

Read More :

90 के दशक का मशहूर गाना घर से निकलते ही फेम ‘मयूरी कांगो’ गूगल में करती हैं जॉब

WhatsApp पर आपकी मर्जी बिना कोई नहीं कर सकता ग्रुप में एड, इस नम्बर पर मैसेज करके खुद करें फेक न्यूज चेक

नेशनल वोटर डे : भारत में ज्यादातर मतदाता नहीं जानते ये अहम नियम

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग