blogid : 26149 postid : 2869

दुनिया के सबसे बहादुर चिंपैंजी ने 'ग्रेजुएशन' पूरा किया, अनोखी खूबी, मजबूत हौसले वाला इकलौता एनीमल

Posted On: 31 Jul, 2020 Others में

Rizwan Noor Khan

OthersJust another Jagranjunction Blogs Sites site

Others Blog

361 Posts

1 Comment

 

 

Image Courtesy : Daily Mail

 

 

जानवरों में सबसे बुद्धिमान चिंपैंजी यानी वनमानुष को माना जाता है। कुछ रिसर्चर्स इस जानवर को मनुष्य का पूर्वज भी बताते हैं। अब इंडोनशिया के एक चिंपैंजी ने फॉरेस्ट स्कूल से ग्रेजुएशन प्रोग्राम को पूरा कर अपनी तेज बुद्धि का सबूत दे दिया है। इस चिपैंजी की अनोखी कौशल क्षमता और साहस के कारण उसे दुनिया का सबसे बहादुर चिंपैंजी भी कहा जा रहा है।

 

 

 

Image Courtesy : Daily Mail

 

 

 

इंडोनेशिया में है सबसे बहादुर चिंपैंजी आरंगुटन कोपराल
डेलीमेल की रिपोर्ट के अनुसार इंडोनेशिया में आरंगुटन कोपराल नाम का चिंपैंजी है उसे पशुप्रेमी सबसे बहादुर चिंपैंजी बता रहे हैं। दरअसल, एक एनीमल प्रोग्राम के लिए चिंपैंजी आरंगुटन कोपराल को बचपन में विशेषज्ञों ने अपनी निगरानी में रखा था। इस प्रोग्राम के दौरान वह अपने बाड़े से निकलकर भागने की कोशिश करते हुए हाई वोल्टेज बिजली के तारों की चपेट में आकर झुलस गया था।

 

 

Image Courtesy : Daily Mail

 

 

दोनों हाथ गंवाने के बाद फॉरेस्ट स्कूल के प्रोग्राम का हिस्सा बना
बिजली के करंट से झुलसने से चिंपैंजी आरंगुटन कोपराल के दोनों हाथों को बुरी तरह नुकसान पहुंचा था। इलाज के जरिए आरंगुटन की जिंदगी तो बचा ली गई, लेकिन उसके दोनों हाथ काटने पड़े। ऐसे में उसकी जिंदगी को सामान्य बनाने के लिए उसे फॉरेस्ट स्कूल के ग्रेजुएशन प्रोग्राम का हिस्सा बनाया गया। इस प्रोग्राम के तहत उसे बिना हाथों के सर्वाइव करना सिखाया गया।

 

 

Image Courtesy : Daily Mail

 

 

 

बिना हाथों के नॉर्मल जिंदगी जीने की कला सीख ली
ग्रेजुएशन प्रोग्राम के दौरान बोरेनो आरंगुटन सर्वाइवल फाउंडेशन के विशेषज्ञों ने उसे बिना हाथों के जिंदगी जीने के तरीके सिखाए। फाउंडेशन के प्रवक्ता ने बताया कि चिंपैंजी को सिखाया गया कि वह कैसे पेड़े पर चढ़ सकता है और किस तरह अपने भोजन को तलाश कर सकता है। विशेषज्ञों ने आरंगुटन की स्किल्स को बेहतर करते हुए सामान्य चिंपैंजी की तरह जीने का तरीखा सिखा दिया है।

 

 

 

 

मजबूत हौसले के कारण सबसे बहादुर चिंपैंजी का खिताब
अब आरंगुटन कोपराल चिंपैंजी ने अपने स्किल्स को बड़े ही हौसले के साथ विकसित किया है। वह मुंह और पैरों की मदद से पेड़े पर चढ़ने में सक्षम है। उसके ​हौसले को देखते हुए विशेषज्ञ उसे दुनिया का सबसे बहादुर चिंपैंजी कहते हैं। आरंगुटन कोपराल अब एनीमल सफारी में अन्य चिंपैंजी के साथ रह रहा है।…NEXT

 

 

 

 

Read more:

आधुनिक इतिहास की सबसे बड़ी पशु त्रासदी, एक साल के अंदर 300 करोड़ जानवरों की जिंदगी तबाह

इन क्यूट हरे सांपों को पकड़ना सबसे मुश्किल, बिना तकलीफ दिए डसने में माहिर

पाकिस्तान में कैद हाथी ने कोर्ट से जीत ली आजादी की लड़ाई, अब कंबोडिया के जंगलों में स्वतंत्र जिएगा

मधुमक्खियों में फैल रही महामारी, रिसर्च में खुलासा- खतरे में हैं दुनियाभर की मधुमक्खियां

दूषित भोजन दे रहा 200 से ज्यादा बीमारियां, कई तो कोरोना से भी खतरनाक

 

 

Rate this Article:

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग