blogid : 11781 postid : 1129168

गीत रूप में संक्षिप्त रामायण

Posted On: 14 Nov, 2019 Spiritual में

DIL KI KALAM SEDIL KI KALAM SE

phoolsingh

63 Posts

310 Comments

राम श्री राम जय जय श्री राम राम श्री राम जय जय श्री राम……..

 

बाल रूप में प्रभु ने

चांंद की रट लगाई थी

युक्ति दे मंथरा ने तब

समस्या ये सुलझाई थी

राम श्री राम जय जय श्री राम राम श्री राम जय जय श्री राम………

 

 

विश्वामित्र ने जब आकर

दशरथ से गुहार लगाई थी

भेज श्री राम संग उनके

राक्षसोंं से मुक्ति दिलाई थी

राम श्री राम जय जय श्री राम राम श्री राम जय जय श्री राम…………

 

 

मोहने आई सुपर्णखा ने

ठिठोली कर दोनों भाइयों से

खाने सीता माता को आई थी

तब लक्ष्मण से नाक कटाई थी

राम श्री राम जय जय श्री राम राम श्री राम जय जय श्री राम………….

 

 

बाली का वध किया प्रभु ने

मित्रता सुग्रीव से करायी थी

बना सेना बंदरोंं की तब

लंका पर चढ़ाई करायी थी

राम श्री राम जय जय श्री राम राम श्री राम जय जय श्री राम………….

 

 

भेष बदल तब रावण ने

सीता माता उठाई थी

विनाश कर रावण कुल का

माता सीता छुड़ाई थी

राम श्री राम जय जय श्री राम राम श्री राम जय जय श्री राम………….

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग