blogid : 11587 postid : 320

फांसी होने का दरवाजा खोलें!

Posted On: 26 Dec, 2012 Others में

सपाटबयानीमेरे विचार - प्रतिक्रिया

pitamberthakwani

182 Posts

458 Comments

अभी हाल में हुए गैंग रैप में सुशील कुमार के साथ भले ही चिदंबरम जी ने मोर्चा सम्भाला हो, पर क्या कुछ होने वाला है?, नहीं! यह खेल कभी भी बंद नहीं है होने वाला! देखा जाय तो यह पाप किसी की ह्त्या करने से भी घिनौना और भयावह है! सोचिये की उस लड़की का क्या हाल हो रहा होता होगा ,जिसकेसाथ यह दूश्कर्म हो रहा होता होगा?एक सामान्य आदमी की हालत जब सुनकर ही खराब हो जाती है तो भुक्तभोगी का हाल बयान करना कैसे संभव होगा?इसका इलाज है की संविधान में परिवर्तन कर ऐसे लोगोको फांसी दी जाने का का दरवाजा खोला जाए! फांसी भी मुग़ल कालीन तरीके से —“सार्वजनिक रूप से चौराहे पर जनता के सामने गोलियों से भूना जाए! ताकि दर्शकों के मन में भय पैदा हो सके!’यदि यह तरीका नहीं अपनाया गया तो यह सब चलता ही रहेगा और कोइ भी कुछनही कर पायेगा!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग