blogid : 1372 postid : 1469

हिंदुस्तान जलता है...

Posted On: 24 Aug, 2012 Others में

परिवर्तन की ओर.......बदलें खुद को....... और समाज को.......

Piyush Kumar Pant

117 Posts

2690 Comments

मस्जिद में खुदा, मंदिर में कहाँ भगवान मिलता है,
लड़ाई मे हिन्दू मुस्लिम की हिंदुस्तान जलता है….
.
बेबस मर गया वो भूख से, जो रिक्शा चलाता था,
लाश से उसकी, नेताओं का अब काम चलता है,
.
मजहब के नाम पर इन्हें, नफरत न सिखाना,
बचपन से जो चलना न सीखा, कहाँ वो फिर संभलता है,
.
मैं मेरे घर तू तेरे घर, भला फिर बात क्या होगी,
बिना कोशिश कहाँ, किसके लिए रस्ता निकलता है,
.
तोड़ दो तलवार उठी हैं ,जो मजहब के नाम पर,
एक साथ चलने से ही, इतिहास बदलता है,
.
ये बस्ती है इन्सानो की, तो यहाँ लाशें क्यों पड़ी हैं,
नज़ारा देख कर अब भी, नहीं क्यों लहू उबलता है,
.
हर तरफ अब उठता हैं, धुआँ अब मकानो से,
सरकारी चंद सिक्कों से, क्या कोई दिल बहलता है,
.
वोटों की गणित में हवा, आग को जो देती चली आई,
बदलने को ये अब सारी हुकूमत दिल मचलता है,
.
मस्जिद में खुदा, मंदिर में कहाँ भगवान मिलता है,
लड़ाई मे हिन्दू मुस्लिम की हिंदुस्तान जलता है….
.

~~पियूष ‘किशोर’ पंत

~~~

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग