blogid : 16861 postid : 774373

तोरे नैना मोरे नैना , जागें सारी सारी रैना ....

Posted On: 16 Aug, 2014 Others में

मेरी अभिव्यक्ति Just another Jagranjunction Blogs weblog

विनय राज मिश्र 'कविराज'

71 Posts

33 Comments

तोरे नैना मोरे नैना
जागें सारी सारी रैना ||
होठों की पंखुड़ियों से
तुझे आज सजाऊँ सारी रैना ||
तोरे नैना मोरे नैना
जागें सारी सारी रैना ||
आँखों से झरता मोती का झरना
शुर्ख गुलाबी गाल पे टपके ||
शर्बत घुलती सारी रैना
मुझे आज पिला दे सारी रैना ||
तोरे नैना मोरे नैना
जागें सारी सारी रैना ||
रसमलाई सी होठो में पिघली
मीठी मीठी सारी रैना ||
रोम रोम रोमांचित है
व्याकुल पाती खोती रैना ||
तोरे नैना मोरे नैना
जागें सारी सारी रैना ||
तोरे अंदर मैं घुल जाऊं
मोरे अंदर तू घुल जाए ||
रह रह कर मन बहकाती रैना
गीत मिलन के गाती रैना ||
तोरे नैना मोरे नैना
जागें सारी सारी रैना ||

विनय राज मिश्र ‘कविराज’

Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग