blogid : 321 postid : 1390629

भीमराव अंबेडकर के पास थीं 32 डिग्रियां, 9 भाषाओं के थे जानकार, अंत में अपना लिया था बौद्ध धर्म

Posted On: 14 Apr, 2019 Politics में

Pratima Jaiswal

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

961 Posts

457 Comments

संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने देश को सामाजिक समानता का रास्‍ता दिखाया। उन्‍होंने विज्ञान और तकनीक के जरिये देश के विकास का सपना देखा था। हम सम्‍मान से उन्‍हें बाबा साहब कहते हैं। उनकी जिंदगी से जुड़े अनेक किस्‍से हैं। उन्‍हीं में से एक किस्‍सा है उनके नाम में ‘अंबेडकर’ जुड़ने का। बहुत कम लोगों को पता होगा कि डॉ. भीमराव का सरनेम पहले ‘सकपाल’ था। बाद में उनका सरनेम आंबेडकर हुआ, जिसके बाद उनका पूरा नाम डॉ. भीमराव अंबेडकर लिखा जाने लगा। आइये आपको बताते हैं डॉ. भीमराव के अंबेडकर से जुड़ी खास बातें

 

ambedkar2

 

पहले सरनेम था ‘सकपाल

डॉ. भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्यप्रदेश के छोटे से गांव महू में हुआ था। 6 दिसंबर 1956 को 65 वर्ष की उम्र में उनका निधन हो गया। बाबा साहब के पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल और माता का नाम भीमाबाई था। इस वजह से शुरू में उनका सरनेम सकपाल था। अब सवाल उठता है कि फिर उनका सरनेम अंबेडकर कैसे हुआ।

 

ambedkar3

 

महार जाति में हुआ था जन्‍म

बाबा साहब का जन्म महार जाति में हुआ था, जिसे उस समय लोग अछूत और निचली जाति मानते थे। अपनी जाति के कारण उन्हें सामाजिक दुराव भी सहन करना पड़ा। प्रतिभाशाली होने के बावजूद स्कूल में उनको छुआ-छूत के कारण अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था। इसे देखते हुए उनके पिता ने स्कूल में उनका उपनाम ‘सकपाल’ की बजाय ‘आंबडवेकर’ लिखवाया। इसके पीछे की वजह यह थी कि वे कोंकण के अंबाडवे गांव के मूल निवासी थे। उस क्षेत्र में उपनाम गांव के नाम पर रखने का प्रचलन था। इस तरह भीमराव सकपाल का नाम आंबडवेकर उपनाम से स्कूल में दर्ज किया गया।

 

ambedkar (2)

 

शिक्षक ने दिया ‘ अंबेडकर’ सरनेम

अब बाबा साहब का उपनाम अंबेडकर था। बाबासाहब से कृष्णा महादेव आंबेडकर नामक एक ब्राह्मण शिक्षक को विशेष स्नेह था। इस स्नेह के चलते ही उन्होंने बाबा साहब के नाम से ‘अंबाडवेकर’ हटाकर उसमें अपना उपनाम ‘ अंबेडकर’ जोड़ दिया। इस तरह उनका नाम भीमराव अंबेडकर हो गया, जिसके बाद उन्‍हें अंबेडकर बोला जाना लगा। बताया जाता है कि 1898 में पुनर्विवाह के बाद वे परिवार के साथ बंबई यानी मुंबई चले गए। वहां एल्फिंस्टन रोड स्थित गवर्नमेंट हाईस्कूल के पहले ऐसे छात्र थे, जिसे उस समय अछूत माना जाता था।

 

32 डिग्रियां और 9 भाषाओं के जानकार
बीआर अंबेडकर को आजादी के बाद संविधान निर्माण के लिए 29 अगस्त, 1947 को संविधान की प्रारूप समिति का अध्यक्ष बनाया गया। फिर उनकी अध्यक्षता में दो वर्ष, 11 माह, 18 दिन के बाद संविधान बनकर तैयार हुआ। कहा जाता है कि 9 भाषाओं के जानकार थे। इन्हें देश-विदेश के कई विश्वविद्यालयों से पीएचडी की कई मानद उपाधियां मिली थीं। इनके पास कुल 32 डिग्रियां थीं। साल 1990 में, उन्हें भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान से मरणोपरांत सम्मानित किया गया था।

 

Ambedkar1

 

नई तकनीक के इस्तेमाल के थे पक्षधर

बताया जाता है कि बाबासाहब नई तकनीक के इस्तेमाल के पक्षधर थे। डॉ. अंबेडकर देश के तकनीकी विकास के लिए संकल्पित थे। उन्होंने पहले संसदीय चुनाव (1951-52) के पहले घोषणापत्र में कहा था कि खेती में मशीनों का प्रयोग होना चाहिए। भारत में अगर खेती के तरीके आदिम बने रहेंगे, तो कृषि कभी भी समृद्ध नहीं हो पाएगी। मशीनों का प्रयोग संभव बनाने के लिए छोटी जोत की बजाय बड़े खेतों पर खेती की जानी चाहिए

 

अंत में अपना लिया बौद्धधर्म
आर्थिक मुश्किलों के साथ ही उन्हें हिंदू धर्म की कुरीतियों को सामना भी करना पड़ा और उन्होंने इन कुरीतियों को दूर करने के लिए हमेशा प्रयास किए। उसके बाद अक्टूबर, 1956 में उन्होंने बौद्ध धर्म अपना लिया जिसके कारण उनके साथ लाखों दलितों ने भी बौद्ध धर्म को अपना लिया। उनका मानना था कि मानव प्रजाति का लक्ष्य अपनी सोच में सुधार लाना है।…Next

 

Read More :

कौन हैं टॉम वडक्कन जो कांग्रेस छोड़ भाजपा में हुए शामिल, कभी कांग्रेस ज्वाइन करने के लिए छोड़ी थी नौकरी

जेल में कैदियों को भगवत गीता पढ़कर सुनाते थे जॉर्ज फर्नांडीस, मजदूर यूनियन और टैक्सी ड्राइवर्स के थे पोस्टर बॉय

पहली मिस ट्रांस क्वीन कांग्रेस में हुईं शामिल, 2018 में जीता था खिताब

 

 

 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग