blogid : 321 postid : 1390464

सांसद-विधायक जूता वॉर पर सोशल मीडिया ने ली चुटकी, जानें कौन हैं हाथापाई करने वाले दोनों नेता

Posted On: 7 Mar, 2019 Politics में

Pratima Jaiswal

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

936 Posts

457 Comments

संत कबीरनगर जिले में जिला नियोजन समिति की बैठक में बीजेपी सांसद शरद त्रिपाठी और विधायक राकेश सिंह बघेल के बीच बुधवार को जमकर हाथापाई हुई। इस जूता वॉर की खबर जब मीडिया तक पहुंची तो सोशल मीडिया यूजर्स भी चटकारे लेने में पीछे नहीं हटे। ऐसे में देखते ही देखते विधायक-सांसद का वीडियो सोशल मीडिया पर चर्चा बटोरने लगा।

 

 

क्या है घटना
सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में बीजेपी सांसद शरद त्रिपाठी बार-बार कहते हुए सुने जा सकते हैं कि सांसद कौन है। सवाल-जवाब के दौर के बाद सांसद शरद त्रिपाठी अपना आपा खो बैठे और जूता निकाल कर बीजेपी विधायक राकेश सिंह को पीटने लगे। हालांकि मेंहदावल से बीजेपी विधायक राकेश सिंह भी अपनी सीट से उठे और शरद त्रिपाठी के पास पहुंचे और उसी अंदाज में जवाब दिया, लेकिन फर्क सिर्फ इतना था कि विधायक जी ने अपने जूते नहीं निकाले थे।

 

वीडियो वायरल होने पर जताया खेद
वीडियो वायरल होने के बाद सांसद शरद त्रिपाठी ने कहा, ‘मुझे इस घटना पर खेद है और मैं बहुत शर्मिंदगी महसूस कर रहा हूं। जो कुछ भी हुआ वह मेरे सामान्य व्यवहार के खिलाफ था। अगर मुझे राज्य प्रमुख द्वारा बुलाया जाता है तो मैं अपनी बात रख दूंगा।

 

कौन है सांसद शरद त्रिपाठी

सांसद शरद त्रिपाठी यूपी बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रमापति राम त्रिपाठी के सुपुत्र हैं। 2009 में पहली बार चुनाव लड़े थे मगर हार गए थे। 2014 में पहली बार सांसद बने हैं। सांसद शरद त्रिपाठी के पिता राजनाथ सिंह के करीबी मानें जाते हैं।

 

 

कौन है विधायक राकेश बघेल

 

 

विधायक राकेश सिंह बघेल 2017 में ही पहली बार विधायक बने हैं। वो संघ के पुराने कार्यकर्ता बताए जाते हैं। खबरों की मानें तो विधायक राकेश बघेल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के करीबी बताए जाते हैं।

 

 

सोशल मीडिया पर बने मीम
इस वीडियो को ट्विटर पर इस हैशटैग के साथ शेयर करने लगे और सांसद-विधायक के साथ-साथ बीजेपी की भी आलोचना करने लगे। कुछ लोगों ने बीजेपी के स्लोगन ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ को लेकर कहा कि अब समझ में आया कि भाजपा का स्लोगन #MeraBoothSabseMazboot नहीं, बल्कि #MeraBootSabseMazboot है। वहीं, कुछ लोग मीम बनाकर बीजेपी की दूसरी नीतियों को आड़े हाथों ले रहे थे।

 

 

 

Read More :

पहली मिस ट्रांस क्वीन कांग्रेस में हुईं शामिल, 2018 में जीता था खिताब

‘आपने तो हमारे दिल की बात कह दी पीएम साहब!’ जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने ऐसे की मोदी की तारीफ

राजनीति से दूर प्रियंका गांधी से जुड़ी वो 5 बातें, जिसे बहुत कम लोग जानते हैं

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग