blogid : 321 postid : 858867

अपनी बेटी के लिए पांच आतंकियों को छुड़वाया था इस मुख्यमंत्री ने

Posted On: 2 Mar, 2015 Politics में

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

985 Posts

457 Comments

मुफ्ति मोहम्मद सईद अपने इस विवादित बयान के कारण कि, जम्मू कश्मीर के चुनाव आतंकवादियों के सहयोग के बिना संभव न हो पाते, काफी आलोचना झेल रहे हैं. पर यह पहला अवसर नहीं है जब मुफ्ति मोहम्मद को इस तरह के विवादों का सामना करना पड़ा हो. जम्मू और कश्मीर के नए मुख्यमंत्री मुफ्ति मोहम्मद सईद का नाम सबसे पहले तब चर्चा में आया जब उनकी बेटी रुबिया सईद को आतंकियों ने अपहरण कर लिया था. तब वे केंद्र सरकार में गृहमंत्री थे. तब केंद्र में वीपी सिंह की गठबंधन की सरकार चल रही थी. माना जाता है कि इसी घटना ने घाटी में हिंसा और अलगाववाद को हवा दी थी.



Mufti


1989 में रुबिया सईद के अपहरण से कश्मीर सहित सारा देश हिल गया था. देश ने आतंकवाद का इतना बर्बर चेहरा अबतक नहीं देखा था. रुबिया एक ड़ॉक्टर थीं पर उनकी एक और पहचान थी, वे केंद्रीय गृहमंत्री मुफ्ति मोहम्मद सईद की बेटी थी. एक दूसरे के धुर विरोधी वाम और दक्षिणपंथी दलों के सहयोग से चल रही वीपी सिंह की सरकार कितनी मजबूर थी यह बताने की जरूरत नहीं. अनिर्णय की स्थिति में ये फैसला किया गया कि आतंकवादियों की मांग को मान लिया जाए.


Read:पाकिस्तान में भूख से लड़ रही है भारत की ये आर्मी


23 साल की रुबिया सईद को तो सुरक्षित छुड़ा लिया गया पर बदले में जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के 5 दुर्दांत आतंकवादियों को छोड़ना पड़ा. पर उनकी रिहाई के साथ ही घाटी में अल्लाह के लिए कलाश्निकोव उठाने के नारे गूंज उठें. उसके बाद से घाटी में अपहरणों और हत्या का एक सिलसिला चल पड़ा जिससे पिछले दो दशक से अधिक समय से घाटी झुलस रही है. कई लोगों का यह मानना है कि अगर उस समय सरकार ने घुटने नहीं टेके होते तो शायद घाटी के हालात इतने न बिगड़े होते. अलगाववादी नेता हिलाल वार ने अपनी किताब ‘ग्रेट डिस्क्लोजरः सीक्रेट अनमास्क्ड’ में तो यहां तक लिखा है कि पीडीपी नेता मुफ्ती मोहम्मद सईद ने गृहमंत्री रहते हुए अपनी बेटी रुबिया सईद का अपहरण की साजिश खुद रच आंतकवादियों को छुड़वाया था.


Two-militants-killed-in-K-011

बीजेपी की मदद से एक बार फिर जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री बनने वाले मुफ्ती मोहम्मद सईद की पहचान एक मृदुभाषी और सौम्य राजनेता के रूप में देखा जाता है, लेकिन देश के गृहमंत्री के तौर पर उनकी छवि को बड़ा आघात लग चुका है. वैसे मुफ़्ती मोहम्मद सईद के राजनीतिक जीवन पर नजर डालें तो हम पाते हैं कि उन्होंने काफी कठिन सफर तय किया है.


Read: भारत बनाम पाकिस्तान: एक ऐसा स्कोरबोर्ड जहां विकेट की जगह दर्ज होती है मौत


1936 में जन्में मुफ्ति मोहम्मद सईद की राजनीतिक जीवन की शुरुआत 1950  में नेशनल कॉनफ्रेंस से हुआ था पर जल्द ही इस पार्टी से उनका मोहभंग हो गया. उन्होंने फिर कांग्रेस का दामन थाम लिया. घाटी में कांग्रेस को खड़ा करने में उनका अहम योगदान रहा. 1971 में राज्य में बनी कांग्रेस की प्रथम सरकार में वे मंत्री बने. बाद में उन्होंने कांग्रेस को छोड़ जनता दल के साथ भी हो लिए. वे वीपी सिंह के जनमोर्चे में भी रहे पर उनके राजनीतिक कॅरियर का लंबा वक्त कांग्रेस में ही बीता है.Next…


Read more:

किरण बेदी ने नहीं, इन्होंने उठाई थी इंदिरा गाँधी की कार!

दोस्त के मना करने के बाद भी क्यों उसकी ही बेटी से शादी करना चाहते थे जिन्ना

जानिए भारत के इन बड़े नेताओं का ‘रिलेशनशिप स्टेटस’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग