blogid : 321 postid : 1390768

लोकसभा में कौन-सा सांसद कहां बैठेगा, इस फॉर्मूले से होता है तय

Posted On: 28 May, 2019 Politics में

Pratima Jaiswal

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

957 Posts

457 Comments

आपने लोकसभा की कार्यवाही का सीधा प्रसारण टीवी पर देखा होगा, उसमें आपने गौर किया होगा कि कौन-से सांसद किस जगह पर बैठे हैं या उनके आसपास कौन से जाने-पहचाने नेता बैठे हैं। ऐसे में ज्यादातर लोग सोचते होंगे कि शायद जल्दी आने के आधार पर या आपस में दोस्ती के आधार पर सांसद सदन में बैठते हैं लेकिन ऐसा नहीं है, आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि कौन-सा सांसद कहां बैठेगा, इसका फैसला कैसे होता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 30 मई को दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। इसके बाद 5 या 6 जून से 17वीं लोकसभा का पहला सत्र शुरू हो सकता है।

 

 

कैसा होता है सदन
लोकसभा को 6 ब्लॉक में बांटा गया है जो स्पीकर के आसन के दाएं, बाएं और सामने होते हैं। इन्हीं ब्लॉक में सांसदों की सीट होती है और बीच में गैलरी होती है। हर ब्लॉक में 11 लाइन होती हैं जिनकी हरे रंग से कवर सीटों पर सांसद बैठते हैं। स्पीकर के ठीक नीचे वाली बेंच पर लोकसभा महासचिव समेत सचिवालय के अधिकारी बैठते हैं जो सदन को सुचारू ढंग से चलाने में स्पीकर की मदद करते हैं। इसके साथ ही वह दिन भर की कार्यवाही का रिकॉर्ड भी रखते हैं। स्पीकर की दाईं और बाईं ओर जो 2 ब्लॉक हैं उनमें 97-97 सीटें होती हैं, बाकी बचे सामने के 4 ब्लॉक में 89-89 सीटें होती हैं। प्रत्येक सांसद के लिए एक सीट निर्धारित होती है, लेकिन कोई मंत्री अगर लोकसभा का सदस्य नहीं भी है, फिर भी वह चर्चा के दौरान सदन में बैठ सकता है।

 

 

यह है सीट का फॉर्मूला
स्पीकर किसी भी पार्टी के सदस्यों की संख्या के आधार पर उनके बैठने की जगह तय करते हैं। इसके लिए एक फॉर्मूला लगाया जाता है, जिसमें किसी पार्टी या गठबंधन के पास कुल सीटों को उस लाइन की कुल सीटें की संख्या से गुणा किया जाता है। इसके बाद जो संख्या आती है, उसे लोकसभा की कुल संख्या से विभाजित कर दिया जाता है। इस फॉर्मूले को समझने के लिए हम एनडीए को इस बार मिली 353 सीटें से समझते हैं। इस बार एनडीए को मिली कुल सीटों को अगर पहली लाइन की कुल सीटें से गुणा किया जाए और फिर कुल संख्या से उसे विभाजित किया जाए तो नतीजा 12।83 आता है। पूर्णांक के लिहाज से इस बार एनडीए के 13 सांसदों को फ्रंट रो यानी आगे की लाइन में जगह मिलेगी।

 

वरिष्ठता को महत्व
यह फॉर्मूला 5 या उससे ज्यादा सीटों वाली पार्टी पर ही लागू होता है। अगर किसी दल के सदस्यों की संख्या 5 से कम है तो स्पीकर और दल के नेता आपसी सहमति से उनके बैठने की सीट तय करते हैं। स्पीकर किसी पार्टी के सदस्य की वरिष्ठता को देखते हुए उसे पहली लाइन में जगह दे सकता है। पिछली बार सपा के मुलायम सिंह यादव और जेडीएस के एचडी देवगौड़ा को आगे की लाइन में जगह दी गई थी, जबकि उनकी पार्टी के पास आगे की लाइन में बैठने लायक संख्याबल नहीं था।…Next

 

Read More :

कौन हैं टॉम वडक्कन जो कांग्रेस छोड़ भाजपा में हुए शामिल, कभी कांग्रेस ज्वाइन करने के लिए छोड़ी थी नौकरी

जेल में कैदियों को भगवत गीता पढ़कर सुनाते थे जॉर्ज फर्नांडीस, मजदूर यूनियन और टैक्सी ड्राइवर्स के थे पोस्टर बॉय

जिन चंदन की लकड़ियों को महात्मा गांधी की चिता के लिए लाए थे अंग्रेज, उनसे ही किया गया था कस्तूरबा गांधी का अंतिम संस्कार

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग