blogid : 321 postid : 1390001

जवाहरलाल नेहरू के लिए प्लेन से मंगवाई गई थी इस ब्रांड की सिगरेट, ये था पूरा किस्सा

Posted On: 14 Nov, 2018 Politics में

Pratima Jaiswal

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

844 Posts

457 Comments

राजनीति के गलियारों में ऐसे कई किस्से हैं, जो किसी खास शख्स के साथ जुड़े होते हैं। जब भी उस शख्स के नाम का जिक्र होता है। उससे जुड़े वो किस्से भी ताजे हो जाते हैं। जवाहरलाल नेहरू से जुड़े ऐसे बहुत से किस्से हैं, जो आज भी चर्चा का विषय है। आज उनके जन्मदिन पर एक नजर डालते हैं उनसे जुड़े किस्सों पर।

 

 

15 साल की उम्र में पढ़ने के लिए गए थे इंग्लैंड
नेहरू के पिता मोतीलाल नेहरू एक रुतबेदार वकील थे। वे इंडियन नेशनल कांग्रेस के लीडर भी रहे। पंडित जवाहरलाल नेहरू की माता का नाम स्वरूप रानी था। वे एक कश्मीर ब्राह्मण थीं और मो‍तीलाल नेहरू से उनका विवाह 1886 में हुआ। जवाहरलाल नेहरू बचपन से ही पढ़ने-लिखने में होशियार थे। जवाहरलाल नेहरू का शुरुआती जीवन इलाहाबाद में ही गुजरा। वे बचपन से ही प्रतिभाशाली थे। 15 वर्ष की उम्र में नेहरू पढ़ने के लिए इंग्लैंड के हैरो स्कूल भेजे गए। हैरो से वह केंब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज गए, जहां उन्होंने तीन वर्ष तक अध्ययन करके प्रकृति विज्ञान में स्नातक उपाधि प्राप्त की। लंदन के इनर टेंपल में दो वर्ष बिताकर उन्होंने वकालत की पढ़ाई की।

 

 

भारत लौटने के चार दिन बाद ही हो गई थी शादी
भारत लौटने के चार वर्ष बाद 1916 में नेहरू का विवाह कमला कौल के साथ हुआ। कमला दिल्ली में बसे कश्मीरी परिवार से थीं। 1919 और 1920 में मोतीलाल नेहरू कांग्रेस के अध्यक्ष बने। 1919 में पंडित जवाहरलाल नेहरू महात्मा गांधी के साथ आ गए। वे गांधी जी साथ कई जगहों पर गए। पंडित जवाहरलाल नेहरू 9 बार जेल में गए थे। नेहरू को 11 बार नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित किया गया गया।

 

अपने स्टाइलिश कपड़ों के लिए भी पॉपुलर थे नेहरू
उनके पहनावे का हर कोई दीवाना था। ऊंची कॉलर वाली जैकेट की उनकी पसंद ने नेहरू जैकेट को फैशन आइकन बना दिया। साल 1947 में भारत को आजादी मिलने पर वे स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री बने। संसदीय सरकार की स्थापना और विदेशी मामलों गुटनिरपेक्ष नीतियों की शुरुआत जवाहरलाल नेहरू की ओर से हुई थी।

 

 

 

प्लेन से मंगवानी पड़ी थी 555 ब्रांड की सिगरेट 

मध्यप्रदेश का नामकरण पंडित नेहरू ने ही किया था। उस दौर के नेता शंकरदयाल शर्मा से उनकी खासी नजदीकियां थीं। इस वजह से नेहरू अक्सर भोपाल आना-जाना करते थे। वो प्रधानमंत्री के तौर पर करीब डेढ़ दर्जन बार भोपाल आ चुके हैं। उन्हें भोपाल काफी पसंद था। उन्हें भोपाल के प्राकृतिक रंग और आबोहवा काफी पसंद थी। उनके नाम पर भोपाल में कई संस्थाएं, अस्पताल, स्कूल हैं। मध्यप्रदेश से नेहरू की जिंदगी से एक खास किस्सा भी जुड़ा है।  एक बार नेहरू भोपाल दौरे पर थे, तब वे राजभवन आए हुए थे। उनकी सिगरेट खत्म हो गई थी। इसी दौरान नेहरू का 555 ब्रांड सिगरेट का पैकेट भोपाल में नहीं मिला। नेहरू को खाना खाने के बाद सिगरेट पीने की आदत थी। जब यहां स्टाफ को पता चला तो उन्होंने भोपाल से इंदौर के लिए एक विशेष विमान पहुंचाया। वहां एक व्यक्ति इंदौर एयरपोर्ट पर सिगरेट के कुछ पैकेट लेकर पहुंचा और वह पैकेट लेकर विमान भोपाल आया। राजभवन की ऑफिशियल वेबसाइट में इस रोचक प्रसंग का उल्लेख है…Next

 

 

Read More :

अपनी प्रोफेशनल लाइफ में अब्दुल कलाम ने ली थी सिर्फ 2 छुट्टियां, जानें उनकी जिंदगी के 5 दिलचस्प किस्से

गुजरात में प्रवासी कर्मचारियों पर हमले को लेकर चौतरफा घिरे अल्पेश ठाकोर कौन हैं

वो 3 गोलियां जिसने पूरे देश को रूला दिया, बापू की मौत के बाद ऐसा था देश का हाल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग