blogid : 321 postid : 1390924

पीएम मोदी ने इस वजह से छोटी करा ली थी कुर्ते की बाजू, जो बन गया ब्रांड ‘मोदी कुर्ता’ : जानें दिलचस्प बातें

Posted On: 17 Sep, 2019 Politics में

Pratima Jaiswal

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

962 Posts

457 Comments

नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री होने के साथ मोदी एक ऐसे नेता है, जिनके बारे में विदेशों में भी बातें होती हैं। आज मोदी का जन्मदिन है, आइए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें-

 

 

कहां से की पढ़ाई

नरेन्द्र मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को वड़नगर में दामोदार दास मूलचंद मोदी और हीराबेन के यहां हुआ। नरेंद्र मोदी वड़नगर के भगवताचार्य नारायणाचार्य स्कूल में पढ़ते थे। नरेन्द्र मोदी स्कूल में औसत छात्र थे।

 

namo-child

 

मोदी का संयुक्त परिवार

नरेन्द्र मोदी 5 भाई-बहनों में से दूसरे नंबर की संतान हैं। नरेन्द्र मोदी को बचपन में नरिया कहकर बुलाया जाता था। नरेन्द्र मोदी के पिता की रेलवे स्टेशन पर चाय की दुकान थी।

 

modi famly

 

भारत-पाक युद्ध में सौनिकों को खिलाया खाना

1965 में भारत-पाक युद्ध के दौरान उन्होंने स्टेशन से गुजर रहे सैनिकों को चाय पिलाई। यही नहीं, वहांं लगे शिविर में मोदी जाकर उनके लिए खाने का भी इंतजाम करते थे।

 

 

 शादी के दो साल बाद छोड़ा घर

छोटी उम्र में उनकी शादी जशोदा बेन चिमनलाल से हुई थी, लेकिन इसके बाद पारिवारिक परेशानी के चलते उन्होंने सन 1967 में घर छोड़कर सन्यास लेने का फैसला कर लिया था।

 

लिखने और एक्टिंग का शौक रखते हैं मोदी

मोदी जब अपने स्कूल के दौर में थे, उस वक्त वह अपने स्कूल में कई सारे नाटकों में भाग लिया करते थे। उन्हें नाटक औऱ रंगमंच से बेहद लगाव थे। यही नहीं गुजराती होने के बावजूद वह हिंदी में कविताएं और कहानियां लिखते थे।

साधु बनना चाहते थे मोदी

नरेन्द्र मोदी बचपन में साधु-संतों से प्रभावित हुए। वे बचपन से ही संन्यासी बनना चाहते थे। संन्यासी बनने के लिए मोदी स्कूल की पढ़ाई के बाद घर से भाग गए थे। इस दौरान मोदी पश्चिम बंगाल के रामकृष्ण आश्रम सहित कई जगहों पर घूमते रहे।

 

narendra-modi-sahu

 घर पर लाए थे घड़ियाल

मोदी बचपन से ही बेखौफ थे, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक बार उन्होंने घर के पास वाले तालाब से घड़ियाल पकड़ लिया और उसे घर लाए। हालांकि, बाद में मां के कहने पर वापस उसे छोड़कर आए।

 

modi ss

 

भाई के साथ मिलकर बेची चाय

मोदी को बचपन से संंन्यासी बनने की इच्छा थी, इसलिये किसी को बिना बताये 2 साल तक वे साधु बनकर हिमालय में रहे थे। वापस आने के बाद मोदी भाई के साथ वडनगर रेलवे स्टेशन पर चाय बेचते थे।

 

praladmodi

 

11. संघ में रहते हुए किए कई छोटे मोटे काम

नरेन्द्र मोदी अहमदाबाद संघ मुख्यालय में वहां के सारे छोटे काम करते जैसे साफ-सफाई, चाय बनाना, और बुर्जुग नेताओं के कपड़े धोना शामिल है.

 

rss

 

इमरजेंसी के दौरान बने थे सरदार

भारत के राजनीतिक इतिहास का काला दिन कहे जाने वाले इमरजेंसी के दौरान सरदार का रूप धरकर ढाई सालों तक पुलिस को छकाते रहे।

 

modi as sardar

 

फैशन नहीं मजबूरी में कटवाई थी कुर्ते की बांह

नरेन्द्र मोदी संघ में कुर्ते की बांह छोटी करवा लीं, ताकि वह ज्यादा खराब न हो, जो वर्तमान में मोदी ब्रांड का कुर्ता बन गया है और देशभर में मशहूर है।

 

Modi-kurta-

 

संत स्वामी विवेकानंद से प्रभावित हैं मोदी

मोदी महान विचारक और युवा दार्शनिक संत स्वामी विवेकानंद से बहुत ज्यादा प्रभावित हैं। उन्होंने गुजरात में ‘विवेकानंद युवा विकास यात्रा’ निकाली थी।

 

फोटोग्राफी का रखते हैं शौक

मोदी पतंगबाजी के शौकीन हैं, इतना ही नहीं उन्हें फोटोग्राफी का भी बेहद शौक है। बचपन में भी उन्होंने फोटोग्राफी में ही दिलचस्पी दिखाई थी।

 

मां का लेते हैं आर्शीवाद

नरेन्द्र मोदी कोई भी नया काम शुरू करने से पहले अपनी मां का आशीर्वाद जरूर लेते हैं। चुनाव में मिली जीत के बाद जब वह गुजरात गए, तो अपनी मां से जाकर आशीर्वाद लिया।

 

modi--mother

 

 

 2 महीने में उनकी 40 से ज्यादा किताबें आई

उनकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जब वो प्रधानमंत्री बने उसके 2 महीने में उनकी 40 से ज्यादा जीवनियां आईं  क्योंकि लोग उनके बारे में ज्यादा जानना चाहते हैं.Next

 

 

NARENDRA book


 

 

Read More :

बीजेपी में शामिल हुई ईशा कोप्पिकर, राजनीति में ये अभिनेत्रियां भी ले चुकी हैं एंट्री

यूपी कांग्रेस ऑफिस के लिए प्रियंका को मिल सकता है इंदिरा गांधी का कमरा, फिलहाल राज बब्बर कर रहे हैं इस्तेमाल

इस भाषण से प्रभावित होकर मायावती से मिलने उनके घर पहुंच गए थे कांशीराम, तब स्कूल में टीचर थीं बसपा सुप्रीमो

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग