blogid : 321 postid : 1381056

दिल्ली में जल्द होंगे विधानसभा चुनाव! 'आप' के बड़े नेता ने दिए संकेत

Posted On: 22 Jan, 2018 Politics में

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

772 Posts

457 Comments

लाभ के पद के मामले में चुनाव आयोग की सिफारिश पर राष्ट्रपति की ओर से अयोग्य ठहराए गए आम आदमी पार्टी (आप) के 20 विधायकों को अब सिर्फ अदालत से ही राहत की उम्म्मीद है। लेकिन इसके साथ ही उप चुनाव की भी तैयारी करने लगे हैं, आप ने रविवार को संकेत दिया कि यदि कोर्ट से उसे न्याय नहीं मिला तो वह फिर चुनाव लड़कर जनादेश हासिल करेगी।


cover


क्या 20 सीटों पर होंगे उपचुनाव !

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया व दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय ने भले ही जनता की अदालत में जाने और कांग्रेस व भाजपा उम्मीदवारों की जमानत जब्त कराने का दम भरा हो, लेकिन जिन विधायकों की सदस्यता गई है, उनकी हालत बहुत अच्छी नहीं है। क्योंकि अगर 20 सीटों पर उपचुनाव हुए तो उसे इन सीटों को बचाने के लिए जी तोड़ मेहनत करनी पड़ेगी।


kejriwal-7593


2015 में हुए चुनावों में चला था आम आदमी का सिक्का

कांग्रेस जहां दिल्ली विधानसभा में खाता खोलने के सपने देख रही है को बीजेपी भी इस चुनाव में ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतना चाहती है। 2015 में हुए चुनाव में आम आदमी पार्टी ने बीजेपी और कांग्रेस का दिल्ली से पूरी तरह सफाया कर दिया था। आम आदमी पार्टी को 67, बीजेपी को 3 और कांग्रेस के खाते में एक भी सीट नहीं आई थी।


kejriwal

आप में उथल-पुथल

लेकिन अब हालात पिछले कुछ सालों में बदल गए हैं, लेकिन अब आम आदमी पार्टी में कुछ भी ठीक नहीं है। एक ओर जहां दो विधायक कपिल मिश्रा और देवेंद्र सेहरावत पार्टी से निलंबित चल रहे हैं तो दूसरी ओर जितेंद्र सिंह तोमर, आसिम अहमद खान, संदीप कुमार पार्टी के विधायक तो हैं लेकिन इनके ऊपर लगे आरोपों के बाद मंत्री पद से हटाया गया है।


655131-vishwas-kejriwal

क्या होगा दिल्ली का

वहीं हाल ही में केजरीवाल के पुराने साथी और पार्टी के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास बगावत का रुख अपनाए हुए हैं। इन सबके बीच अरविंद केजरीवाल के सामने सबको साथ रखने की भी चुनौती होगी। फिलहाल देखने वाली बात यह है कि इन 20 विधायकों के पास क्या रास्ते हैं।आम आदमी पार्टी अब राष्ट्रपति के फैसले पर पहले दिल्ली हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट में अपील कर सकती है और न्यायपालिका को राष्ट्रपति के फैसले पर समीक्षा करने का भी अधिकार है। ऐसे में आने वाले दिनों में दिल्ली के सियासी गलियारों में बहुत कुछ नया देखने को मिल सकता है।…Next


Read more:

हिमाचल प्रदेश के नए मुख्‍यमंत्री की पत्‍नी हैं डॉक्‍टर, दिलचस्‍प है इनकी लव स्‍टोरी

2017 के वो 5 विवादित बयान, जिनसे चढ़ा सियासी गलियारों का पारा

132 साल की हुई देश को 6 पीएम देने वाली कांग्रेस पार्टी, इस तरह हुई थी स्‍थापना

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग