blogid : 321 postid : 1389335

बिहार-उत्तर प्रदेश में फिर चुनाव की तैयारी, नीतीश-अखिलेश का कार्यकाल हो रहा है खत्म

Posted On: 3 Apr, 2018 Politics में

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

962 Posts

457 Comments

चुनाव आयोग ने घोषणा की कि बिहार एवं उत्तर प्रदेश के विधान परिषद की 24 सीटों के लिए चुनाव 26 अप्रैल को होगा। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का उनके अपने अपने राज्यों के ऊपरी सदन की सदस्यता का कार्यकाल समाप्त होने के नजदीक है। बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का राज्य विधानपरिषद के सदस्य के तौर पर कार्यकाल भी छह मई को समाप्त होने वाला है।

 

 

 

यूपी से 13 और बिहार से 11 सीटें खाली होंगी

चुनाव आयोग की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया कि हर 2 साल पर होने वाले विधान परिषद के चुनाव में इस साल यूपी से 13 और बिहार से 11 सीटें खाली होने वाली हैं। उत्तर प्रदेश में 13 सदस्यों का कार्यकाल 5 मई को खत्म होने जा रहा है जबकि बिहार में 6 मई को खत्म होगा।

 

 

इस साल रिटायर होंगे ये बड़े नाम

इन सीटों में कुछ बेहद बड़े नाम भी शामिल हैं। बिहार में मुख्यमंत्री नीतिश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के अलावा उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी इस साल रिटायर होने वाली लिस्ट में शामिल बड़ा नाम हैं। फिर से चुने जाने के लिए बिहार में मुख्यमंत्री नीतिश और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की राह में कोई बाधा नहीं होगी, वही स्थिति अखिलेश के साथ भी है, इन लोगों के फिर से चुने जाने की संभावना है।

 

 

26 अप्रैल को होगी वोटिंग

निर्वाचन आयोग ने सोमवार को विधान परिषद चुनाव का कार्यक्रम घोषित किया। 9 अप्रैल को अधिसूचना जारी होने के साथ ही नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी। 17 अप्रैल को नामांकन पत्रों की जांच होगी और 19 अप्रैल तक नामांकन वापस लिए जा सकेंगे। 26 अप्रैल को शाम 5 बजे से मतगणना होगी। कहा जा रहा है कि विधान परिषद के चुनाव नोर्विरोध हो सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो बीजेपी और सहयोगी दलों के 11 सदस्य निर्विरोध चुने जाएंगे, जबकि विपक्षी दलों के दो सदस्य भी चुने जाएंगे।

 

 

ऐसा है विधायकों का आकंड़ा

विधानसभा में बीजेपी के 324, सपा के 47, बसपा के 19, कांग्रेस के 7, रालोद का 1 और 4 निर्दलीय विधायक हैं। जेल में बंद बसपा विधायक मुख़्तार अंसारी और सपा विधायक हरिओम यादव के मताधिकार पर हाईकोर्ट ने रोक लगा रखी है। राज्य सभा में क्रॉस वोटिंग के आरोप में बसपा विधायक अनिल सिंह को पार्टी से निलंबित कर दिया गया है। रालोद ने भी अपने एकलौते विधायक सहेंद्र रामाला को निष्कासित किया है। ऐसे में सपा, बसपा और कांग्रेस के पास 70 विधायकों का वोट है। वहीं बीजेपी के पास 311, अपना दल एस के पास 9 और भासपा के चार मत सहित बीजेपी गठबंधन के पास 324 मत हैं।

 

 

 

उत्तर प्रदेश में 13 और बिहार में 10 सीटें खाली

उत्तर प्रदेश में कुल 13 सीटें और बिहार में 10 सीटें क्रमश: पांच और छह मई को खाली हो रही हैं। उत्तर प्रदेश में खाली हो रही सीटों में से एक पर यादव और बिहार में खाली हो रही सीटों में से कुमार और मोदी सदस्य हैं। बिहार में एक अन्य सीट नरेंद्र सिंह को गत छह जनवरी 2016 को अयोग्य करार दिये जाने के चलते खाली हो रही है। उनका कार्यकाल इस वर्ष छह मई तक था। आयोग ने कहा कि 24 सीटों के लिए चुनाव 26 अप्रैल को होगा। इनमें से 13 सीटें उत्तर प्रदेश और 11 बिहार में हैं।Next

 

 

 

Read More:

मायावती ने उपचुनावों में सपा से दूरी बनाकर चला बड़ा सियासी दांव!

कर्नाटक में बज गया चुनावी बिगुल, ऐसा है यहां का सियासी गणित

राज्यसभा के बाद यूपी में एक बार फिर होगी विधायकों की ‘परीक्षा’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग