blogid : 321 postid : 1390623

लोकसभा चुनाव 2019 : एक सीट पर खड़े हैं 7 उम्मीदवार, यहां सुरक्षा में लगे हैं 80 हजार जवान

Posted On: 11 Apr, 2019 Politics में

Pratima Jaiswal

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

922 Posts

457 Comments

नक्सली प्रभावित इलाकों में चुनाव की प्रक्रिया को शांतिपूर्वक कराना बहुत ही चुनौतीभरा काम है। इन इलाकों में उस वक्त खतरा और भी ज्यादा होता है जब हाल-फिलहाल में यहां चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित करने के लिए धमाके अंजाम दिए गए हो। छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव के पहले चरण के तहत बस्तर मसंसदीय सीट के अंतर्गत विधानसभा क्षेत्र कोंटा, दन्तेवाड़ा, बीजापुर और नारायणपुर में सुबह सात बजे से मतदान जारी है जो कि दोपहर तीन बजे तक होगा, जबकि विधानसभा क्षेत्र बस्तर, चित्रकोट, कोण्डागांव और जगदलपुर में सुबह सात बजे से शाम पांच बजे तक मतदान होगा। अधिकारियों ने बताया कि बस्तर लोकसभा क्षेत्र में कुल 13,72,127 मतदाता हैं जिनमें से 6,59,824 पुरूष और 7,12,261 महिला मतदाता हैं। वहीं 42 तृतीय लिंग मतदाता हैं।

 

प्रतीकात्मक तस्वीर

 

सुरक्षा में लगे हैं 80 हजार जवान
छत्तीसगढ़ में शांतिपूर्ण मतदान के लिए लगभग 80 हजार जवानों को तैनात किया गया है। इनमें से 50 हजार अर्ध सैनिक बल के जवान क्षेत्र में पहले से ही मौजूद हैं। वहीं केंद्र से भी चुनाव के लिए बलों को यहां भेजा गया है। बस्तर लोकसभा सीट के लिए कुल सात उम्मीदवार चुनाव मैदान में है।

 

 

 

नक्सलियों ने की है चुनाव का बहिष्कार करने की घोषणा
इस संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत 289 मतदान केन्द्रों को अन्य स्थानों पर शिफ्ट किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि लोकसभा निर्वाचन के लिए बस्तर संसदीय क्षेत्र में 27 संगवारी मतदान केन्द्र, 32 आदर्श मतदान केन्द्र और नौ दिव्यांग मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि नक्सल प्रभावित क्षेत्र में शांतिपूर्ण मतदान संपन्न कराना सुरक्षा बलों के लिए चुनौती का काम है। क्षेत्र में नक्सलियों ने चुनाव बहिष्कार की घोषणा की है तथा मंगलवार को उन्होंने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर दंतेवाड़ा क्षेत्र के भाजपा के विधायक भीमा मंडावी, वाहन चालकर और तीन सुरक्षाकर्मियों की हत्या कर दी थी।…Next

 

Read More :

कौन हैं टॉम वडक्कन जो कांग्रेस छोड़ भाजपा में हुए शामिल, कभी कांग्रेस ज्वाइन करने के लिए छोड़ी थी नौकरी

जेल में कैदियों को भगवत गीता पढ़कर सुनाते थे जॉर्ज फर्नांडीस, मजदूर यूनियन और टैक्सी ड्राइवर्स के थे पोस्टर बॉय

जिन चंदन की लकड़ियों को महात्मा गांधी की चिता के लिए लाए थे अंग्रेज, उनसे ही किया गया था कस्तूरबा गांधी का अंतिम संस्कार

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग