blogid : 321 postid : 1347636

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी और अमिताभ बच्चन कभी थे गहरे दोस्त, जानें क्यों टूटी दोस्ती

Posted On: 21 Aug, 2017 Politics में

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

757 Posts

457 Comments

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का रविवार को जन्मदिन था. उनका जन्म 20 अगस्त 1944 को हुआ था. राजीव गांधी भारत के सबसे लोकप्रिय नेता के तौर पर जाने जाते हैं. आपको जानकार हैरानी होगी कि राजनीति के इस धुरंधर के सबसे पक्के दोस्त कभी बॉलीवुड के मेगास्टार अमिताभ बच्चन हुआ करते थे. अमिताभ बच्चन और राजीव की गहरी दोस्ती थी, लेकिन बाद में दोनों के रिश्तों में कड़वाहट आ गई, जानें क्या थी इसकी वजह.


cover rajiv-amit


विरासत में मिली दोस्‍ती

राजीव और अमिताभ तब से दोस्त हैं, जब से अमिताभ के पिता हरिवंश राय बच्चन और राजीव गांधी के नाना पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू दोस्त थे. ऐसे में यह दोस्ती इन्‍हें विरासत में मिली थी. राजीव और अमिताभ बचपन से एक-दूसरे को जानते थे. इनका बचपन साथ में बीता था.


amitabh-rajiv



चार साल की उम्र से थे दोस्त

कहा जाता है कि दोनों एक-दूसरे को चार साल की उम्र से जानते थे. इनकी दोस्ती इतनी गहरी थी कि जब राजीव पढ़ाई करने इंग्लैंड गए थे, तो वहां से हमेशा अमिताभ को चिट्ठी लिखते थे. राजीव जब इंग्लैंड से वापस आए तो वे अमिताभ के लिए कई सारे तोहफे लेकर आए थे.


Amitabh-bachchan-rajiv-gandhi




सोनिया गांधी के भी बेहद करीब था बच्चन परिवार

13 जनवरी 1968 को सोनिया गांधी जब इटली से भारत आईं, तब अमिताभ उन्हें एयरपोर्ट लेने गए थे. भारत आने के 43 दिन बाद सोनिया की शादी राजीव गांधी से हुई थी. इस दौरान सोनिया अमिताभ के घर उनके माता-पिता के साथ ही रही थीं.



amitabh_rajiv_




शूटिंग के दौरान भी अमिताभ से मिलते थे राजीव

अमिताभ की फिल्म की शूटिंग के दौरान भी कई बार राजीव उनसे मिलने जाते थे. अमिताभ ने बताया था कि फिल्म ‘गंगा की सौगंध’ की शूटिंग के दौरान भी राजीव उनसे मिलने जयपुर आते थे. दोनों की दोस्ती 70 और 80 के दशक तक बरकरार रही. दोनों के परिवार भी एक-दूसरे के बेहद करीब थे.



amit



1984 में राजनीति में आए अमिताभ

सन 1984 में अमिताभ राजनीति में आए. आम चुनावों में अमिताभ इलाहाबाद सीट से मैदान में उतरे और जीत हासिल की. मगर अमिताभ का राजनीतिक कॅरियर काफी छोटा रहा.


Amitabh_bachchan_Politician


बोफोर्स घोटाले के बाद दोस्‍ती में पड़ी दरार

अमिताभ को राजनीति में आए कुछ साल ही हुए थे कि सरकार पर बोफोर्स घोटाले के आरोप लगे. ऐसा बवाल मचा कि अमिताभ भी निशाने पर आने लगे. अमिताभ ने परेशान होकर तीन साल में ही इस्तीफा दे दिया. राजीव को अमिताभ का यह फैसला नागवार गुजरा और यहीं से दोस्ती में दरार पड़ गई.


Amitabh-Bachchan



राजीव की मौत के बाद परिवारों में बढ़ी दूरी

सन 1991 में राजीव गांधी की हत्या कर दी गई. इसके बाद दोनों परिवारों के बीच दूरियां और बढ़ गईं. बताया जाता है कि अमिताभ को उनकी कंपनी एबीसीएल में काफी घाटा हुआ, जिसमें अमर सिंह ने उनकी मदद की. इसके बाद अमिताभ ने गांधी परिवार से नाता तोड़ा और सपा के खेमे में शामिल हो गए…Next


Read More:

कोई खेलता है क्रिकेट तो किसी को पसंद है स्विमिंग, जानें खाली वक्त में क्या करते हैं ये राजनेता
49 दिन में दिल्ली की सत्ता छोड़ने वाले केजरीवाल की ऐसी है लव स्टोरी
सुब्रह्मण्‍यम स्वामी से लेकर सचिन पायलट तक, कुछ ऐसी है इन नेताओं की लव स्टोरी

कोई खेलता है क्रिकेट तो किसी को पसंद है स्विमिंग, जानें खाली वक्त में क्या करते हैं ये राजनेता

49 दिन में दिल्ली की सत्ता छोड़ने वाले केजरीवाल की ऐसी है लव स्टोरी

सुब्रह्मण्‍यम स्वामी से लेकर सचिन पायलट तक, कुछ ऐसी है इन नेताओं की लव स्टोरी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग