blogid : 321 postid : 1353140

शिंजो आबे और उनकी पत्‍नी ने एयरपोर्ट पर ही बदल लिए थे कपड़े, आपने ध्‍यान दिया क्‍या!

Posted On: 14 Sep, 2017 Politics में

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

767 Posts

457 Comments

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे की भारत यात्रा पर देश की मीडिया के साथ ही विदेशी मीडिया की भी नजर लगातार बनी रही। आबे की इस यात्रा के केंद्र में भारत में बुलेट ट्रेन प्रोजेक्‍ट की शुरुआत थी, लेकिन इसके अलावा भी जापान और भारत के बीच कई डील हुईं। दुनिया भर में शिंजो आबे की इस यात्रा की चर्चा है, तो भारत में भी लोग इसके कई मायने निकाल रहे हैं। वहीं, इस यात्रा की शुरुआत में ही एक एेसा दिलचस्‍प वाकया भी देखने को मिला, जिस पर निगाह तो सबकी पड़ी, लेकिन शायद ध्‍यान किसी ने नहीं दिया। आइये आपको बताते हैं क्‍या था वो दिलचस्‍प वाकया।


abe in india


आबे ने पहना कुर्ता-पजामा और नीली जैकेट

शिंजो आबे के भारत पहुंचने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अहमदाबाद एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी की। पीएम मोदी ने गले मिलकर आबे का स्वागत किया। इसके बाद उन्हे गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। एयरपोर्ट पहुंचने से लेकर गार्ड ऑफ ऑनर तक शिंजो आबे कोट-पैंट पहने हुए थे, जबकि उनकी पत्नी सफेद रंग की ड्रेस पहनी हुई थीं। इसके बाद जब आबे और उनकी पत्‍नी रोड शो के लिए मोदी के साथ निकले, तो दोनों ने ड्रेस बदल लिए थे। आबे सफेद रंग का कुर्ता-पजामा और नीले रंग की हाफ जैकेट पहने हुए थे। वहीं, उनकी पत्‍नी लाल रंग के भारतीय सूट और दुपट्टे में नजर आईं।


abe modi


गांधी जी के तीनों बंदरों के बारे में बताया

पीएम मोदी, शिंजो आबे और उनकी पत्‍नी ने एयरपोर्ट से साबरमती आश्रम तक आठ किलोमीटर लंबा रोड शो किया। साबरमती आश्रम पहुंचने पर आबे ने आश्रम में गांधी जी की तस्वीर पर सूत की माला चढ़ाई। मोदी ने आबे और उनकी पत्नी को गांधी जी के चरखे के बारे में बताया। इस दौरान आश्रम में ‘वैष्णव जन’ और ‘रघुपति राघव’ भजन भी गाए गए। आबे और उनकी पत्नी ने साबरमती आश्रम में विजिटर्स बुक में अपने अनुभव लिखे। मोदी ने शिंजो आबे को गांधी जी के तीनों बंदरों के बारे में भी बताया।


Read More:

DU, JNU समेत कई बड़े संस्‍थान नहीं ले सकेंगे विदेशी पैसा, सरकार ने लगाई रोक

इस देश में मिलता है सबसे सस्‍ता पेट्रोल, हमारे यहां की कीमत में मिलेगा 100 लीटर से भी ज्‍यादा
इस वजह से 14 सितंबर को मनाया जाता है हिंदी दिवस, 1953 से हुई शुरुआत

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग