blogid : 321 postid : 773610

पैसा, बंगला, गाड़ी... इनमें से कुछ नहीं मिलता फिर भी क्यों किसी तख्त पर बैठने से कम नहीं है ‘भारत रत्न’ कहलाना

Posted On: 13 Aug, 2014 Politics में

Political Blogराजनीतिक नेताओं के व्यक्तित्व-कृतीत्व सहित उनकी उपलब्धियों को दर्शाता ब्लॉग

Politics Blog

772 Posts

457 Comments

जब कोई उम्मीद से बढ़कर अपने देश के लिए कुछ करता है तो उसे एक बड़ा सम्मान मिलना आवश्यक होता है और हमारे देश में यह सम्मान ‘भारत रत्न’ के नाम से दिया जाता है. किसी भी भारतीय के लिए ‘भारत रत्न’ से सम्मानित होना अपने आप में गर्व की बात है, इसे हासिल करना किसी तख्त को पाने से कम नहीं इसीलिए तो ‘भारत रत्न’ मिलने वाले को ना सिर्फ सरकार बल्कि पूरे देश की नजरें भारत रत्न पाने वाले पर टिकी रहती हैं.


doctor rajendra prasad


भारत रत्न सर्वोच्च नागरिक सम्मान है, अर्थात यह एक भारतीय को दिए जाने वाले सम्मानों में सबसे उत्कृष्ट होता है. इसके बाद पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री सम्मान आता है. इस खास तरह के सम्मान की स्थापना 2 जनवरी, 1954 को उस समय के राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी.


Read More: उसका चेहरा खराब करने में प्रेमी ने कोई कसर नहीं छोड़ी, फिर भी वह बन गई ब्यूटी क्वीन


क्यों देते हैं भारत रत्न?


सरकार द्वारा इस सम्मान को राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है और इसके लिए नामित किया जाने वाला व्यक्ति कला, साहित्य, विज्ञान, खेल, इत्यादि क्षेत्रों से हो सकता है, बस जरूरत है तो जीवनकाल में उनके द्वारा की गई राष्ट्र सेवा की, जिसे ध्यान में रखते हुए संबंधित शख्स का चयन किया जाता है. इस खास सम्मान के लिए प्रत्येक साल केवल 3 ही नामों को चुना जाता है जिन्हें खुद भारत के राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किया जाता है.


भारत रत्न को क्या मिलता है?


किसी व्यक्ति को भारत रत्न की उपाधि से नवाजते हुए उसे सम्मान तो प्रदान किया ही जाता है लेकिन इसके अलावा कुछ और भी खास चीजें प्रदान की जाती हैं जैसे कि एक प्रमाणपत्र व एक तमगा.


bharat ratna


Read More: क्या सीक्रेट है उस लड़की का जिसने जापान की सारी लड़कियों को अपने पीछे दीवाना बना रखा है


सम्मान पाने वाले शख्स को सरकार की ओर से किसी भी तरह की कोई रक्म नहीं दी जाती लेकिन इसके अलावा ऐसी कई सुविधाएं दी जाती हैं जिसे पाना ही गर्व की बात है.


भारत रत्न पाने के बाद वह शख्स भारतीय रेल में जिंदगी भर मुफ्त यात्रा कर सकता है व सरकार द्वारा आयोजित होने वाले मुख्य कार्यक्रमों का हिस्सा भी बन सकता है.


भारत रत्न पाने वाले को सरकार द्वारा ‘वॉरंट ऑफ़ प्रेसिडेंस’ भी दिया जाता है. इसके अलावा उन्हें संसद के दोनों सदनों में मुख्य स्थान प्रदान किया जाता है.


mother teressa



केवल केन्द्र सरकार ही नहीं बल्कि राज्य सरकारों द्वारा भी अपने राज्य के भारत रत्न अवार्डी को सुविधाएं दी जाती हैं. उदाहरण के तौर पर यदि दिल्ली में भारत रत्न अवार्डी को सुविधा देने की बात हो तो सबसे पहली सुविधा डीटीसी बसों में मुफ्त यात्रा मिलने की होती है.


भारत रत्न अवार्डी अपने ‘विजिटिंग कार्ड’ पर भी इस बात का जिक्र कर सकता है और उस पर ‘राष्ट्रपति द्वारा भारत रत्न से सम्मानित’ या फिर ‘भारत रत्न प्राप्तकर्ता’ लिखवा सकता है जिसे कानूनी रूप से सही माना जाता है.


Read More: मरने के बाद वो इंसानी बस्ती में लौटे तो जरूर पर फिर वापिस कभी अपनी दुनिया तक नहीं पहुंच पाए….!!

जब चैनल का मंच बना युद्ध का मैदान – देखिए किस तरह से दो पैनलिस्ट आपस में भीड़ गए

आसमान से उतरा था वो या समय की गति को मात देकर आया था…देखिए चीन की सड़कों पर घूमते एक रहस्यमय व्यक्ति की हकीकत

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग