blogid : 12847 postid : 777185

अपने उस्तादों को धकियाने में माहिर है बीजेपी का यह ‘लाल’

Posted On: 27 Aug, 2014 Others में

कटाक्षराजनीति: एक हंगामा

politysatire

82 Posts

42 Comments

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद बीच-बीच में उपचुनाव की ‘एनर्जी ड्रिंक’ मिलने के बावजूद आज भी कांग्रेस अपने पिछले सदमे से बाहर निकल ही नहीं पा रही है. आज भी मोदी की लहर उन्हें सता रही है, तड़पा रही है या कहें रुला रही है. जिस भी मंच पर मोदी जाते हैं उनकी तो वाहवाही होती है, बदले में कांग्रेस नेताओं की फजीहत भी देखने को मिलती है.



modi


पिछले कुछ महीनों से मोदी की लहर ने उनके विरोधियों को केवल गम ही गम दिए हैं लेकिन अब इस गम में मोदी के अपने भी आंसुओं का दरिया बहा रहे हैं. मन के ‘मनोहर’ और बालहकरने वाले कभी बीजेपी के लाल रहे ‘लालकृष्ण’ आजकल नए लाल (मोदी) की बालहठ की वजह से मुंहफुलाए हुए हैं.


Read: क्या आप भी अपने बच्चे को क्रेच में छोड़कर ऑफिस जाते हैं?


भैइया मुंहफुलाए भी क्यों ना, जो ‘लाल’ (मोदी) कभी अपने उस्तादों (अटल-आडवाणी-मनोहर) की गोद में खेला करता था, राजनीति और हिंदुत्व का ककहरा सिखा करता था आज वही ‘अभिमानी लाल’ बीजेपी के तीन धरोहरों में से दो को ‘कभी इस ओर तो कभी उस ओर धकिया रहा है’. उन्हें राजनैतिक पदों का लॉलीपॉप तो दिखा रहा है, लेकिन कुछ देर दिखाने के बाद खुद ही मुंह में गप कर जाता है.


image1



ऐसा लग रहा है जैसे कोई दुलारा बेटा भाजपा रूपी परिवार में मनमानी कर रहा है या कोई खेल खेल रहा है. समस्या यह है कि परिवार का लोकप्रिय और चर्चित ‘लाल’ होने की वजह से कोई उसके हठ को रोक भी तो नहीं सकता. कब क्या पता, यह हठधर्मी लाल उनके साथ भी लॉलीपॉप वाला खेल खेलने लगे.


Read: अगर मुझसे शादी करनी है तो तुम्हें मुझे बाथरूम ले जाना होगा


इस लाल की बदमाशियां और शैतानियां इस हद तक बढ़ चुकी है कि बड़े-बुजुर्गो का आदर-सतकार कैसे करना चाहिए वह भी भूल गया है. संघ और पार्टी में रहते हुए जो शिक्षा इन बुजुर्गो द्वारा दी गई थी उसे भी दरकिनार करते हुए सबसे उंची वाली कुर्सी पर बैठकर मनमानी कर रहा है.


advani-modi



उंची वाली कुर्सी पर बैठकर अभी आगे क्या गुल खिलाएगा बीजेपी का यह ‘नया लाल’ यह तो पता नहीं लेकिन उसकी बदमाशियां और शैतानियां आगे भी जारी रहेगी. अब शायद वह परिवार के उन सदस्यों को निशाना बनाए जो इससे बढ़कर बालहठ करने की कोशिश करते हो.


Read more:

पति 112 साल का और पत्नी 17 साल की….पढ़िए ऐसे ही कुछ अजीबोगरीब प्रेमी जोड़ों की कहानी

यह स्कूल बाकी स्कूलों से कुछ स्पेशल है क्योंकि यहां केवल जुड़वा बच्चे आते हैं

ओलंपिक में एक मैडल पक्का, यह बच्चा अपने खेल से भारत को दिला सकता है एक पदक


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग