blogid : 12847 postid : 57

आज मैंने हंगामा नहीं किया

Posted On: 6 Dec, 2012 Others में

कटाक्षराजनीति: एक हंगामा

politysatire

82 Posts

42 Comments

यहां कितने आश्वासन दिए गए, कितने वायदे किए गए पर ना जाने यह पूरे क्यों नहीं हो पाते. प्रसिद्ध व्यंग्यकार शरद जोशी ने खूब कहा था – कौन कहता है हमारी सरकार ठोस कदम नहीं उठाती, पर वो कदम इतने ठोस होते हैं कि वो उठ ही नहीं पाते. बिल्कुल यही हालत यहां की भी है जो पूरी तरह से इसे इस कथन के अनुरूप बनाती है.  यही हालत भारत के संसद की है जहां दुनिया भर के सबसे ज्यादा आश्वासन दिए जाते हैं पर शायद ही उनमें से कुछ पूरे हो पाते हैं. संसद मतलब हंगामा. आज तक भारतीय संसद में जो भी हुआ उसमें हंगामे तो आम हैं.


Read:पैसे के आगे क्यों कमजोर पड़ जाता है प्यार !!


bjp_congressक्या ये थे कदम: आज तक भारत में कई सारी योजना और प्रयोग किए गए हैं जिसमें से रोजगार और आर्थिक नीतियों की योजनाओं पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है. यह ध्यान सरकार द्वारा नहीं दिया जाता है बल्कि जनता इनके प्रति लालाइत नेत्रों से देखती रहती है. आज उन नेत्रों की परवाह न करते हुए सरकार कुछ ऐसे फैसले ले रही है जिससे जनता पूरी तरह त्रस्त हो चुकी है. नित्य बढ़ते डीजल और पेट्रोल के मूल्य एक सबसे बड़ी चिंता का सबब है. ईंधन गैस के ऊपर सब्सिडी घटने और लगातार बढ़ मंहगाई के कारण सारे पर्व धूमिल पड़ते जा रहे हैं.


Read:कहां गायब हो गईं ये हसीनाएं


कभी-कभी ये भी: कभी-कभी इस पूरे चक्र में यह भी सुनने को मिल जाता है जब कोई सांसद बड़े गर्व से आकर कहता है कि “आज मैंने संसद में कोई हंगामा नहीं किया.” कितनी बड़ी बात है, आज तो आपने देश पर कृपा कर दी कोई हंगामा नहीं कर के जनता आपकी आभारी है, जिसपे आप भारी हैं और वो बोझ तले मरी जा रही है. किसी नेता जी के घर में महीने में 15 सिलिंडरों की खपत है और जनता को कम में ही बहला दिया गया. इस पर चौंकना नहीं चाहिए यह तो भारत में होता आया है, बहलाना तो यहां की परंपरा रही है.


Read:कितने आदमी थे? हा हा हा हा………


भारत में सब चलता है: भारत में सब कुछ पंरपरा पर आधारित होता है. चाहे वो खानदान की रीति हो या राजनीति में खानदान. किसी विशेष परिवार से अगर आप संबंध रखते हैं तो आपको कभी कोई अड़चन नहीं आएगी. आप चाहे कितने भी स्वार्थी क्यों ना हों आपका पतन कभी नहीं होगा. संसद चले या न चले कुछ भी हो जाए पर आपका अस्तित्व हमेशा बरकरार रहेगा.


Read More:

खिलाड़ी के सेक्स को लेकर बवाल

सफेदी ओढ़े नेता जी की राजनीति

संसद क्या हल्ला मचाने की जगह है?



Tags:Congress Party India, BJP,  Indian Politics, Politics in India, Congress, System of Politics, India, Indian Politics, भारत में राजनीति, लूट की राजनीति, नेता, रविशंकर प्रसाद,  राजनीति और पैसा, कांग्रेस पार्टी, कांग्रेस पार्टी नेता, भाजपा, Ravishankar Prasad.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग