blogid : 12847 postid : 741265

बूढ़े होने का गम जिसे सबसे ज्यादा है, वह यही हैं

Posted On: 16 May, 2014 Politics में

कटाक्षराजनीति: एक हंगामा

politysatire

82 Posts

42 Comments

अगर पूछा जाए कि बूढ़े होने का गम सबसे ज्यादा किसे है तो सबसे पहला नाम हमारे ‘दादा’ का होगा. अरे नहीं समझे ‘दादा’, दादा वही हमारे लालकृष्ण आडवाणी जी. 86 साल के आडवाणी जी बेचारे बूढ़े क्या हुए उनकी तो लुटिया ही अधेड़ों ने डुबा दी. वे चीखते रह गए कि आखिर क्या कमी है उनमें कि वे प्रधानमंत्री नहीं बन सकते लेकिन किसी ने उनकी सुनी नहीं. और तो और, अब दादा को पक्का दादा वाला काम देने की कह रहे हैं.


L. K. Advani



सुनने में आया है कि दादा अब लोकसभा के स्पीकर बनेंगे. जैसे सभी दादा बच्चों की चूं-चपड़ पर चुपचाप रहा करते हैं, बीच-बीच में लाठी से डरा दिया करते हैं ऐसे ही बेचारे आडवाणी अब लोकसभा में गाल पर हाथ रखकर बैठे चुपचाप सांसदों की चीख-चिल्लाहट सुना करेंगे, झपकियां लिया करेंगे और जैसे ही सभापति महोदय, सभापति महोदय की चीखें ज्यादा ऊंची होकर उनकी नींद में खलल करेंगी वे जोर से माइक पर चिल्लाकर सबको चुप करा दिया करेंगे. ठीक वैसे ही जैसे पहले दादाजी के साथ परिवार के सभी बच्चे एक साथ पढ़ने बैठते थे. दादाजी ऊंघते हुए बस उनकी बातें सुना करते थे और जब देखा बच्चे पढ़ाई की बजाय शरारत ज्यादा कर रहे हैं तो डांट दिया. चलो अच्छा है दादा खाली तो नहीं रहेंगे अब!


Read More:

हॉट, स्पाइसी, शुद्ध देशी ‘कांग्रेस-मोदी मार-वार’

पूत कपूत भले हो जाएं, ये माता कुमाता नहीं सौतेली माता हैं

घोड़ा-घोड़ा जपना, सारी मुसीबतों से बचना…

पढ़िए 2014 लोकसभा चुनाव के फेमस किस्से जो हमेशा याद किए जाएंगे

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग