blogid : 7694 postid : 769367

दोहे // प्रदीप कुमार सिंह कुशवाहा //

Posted On: 1 Aug, 2014 Others में

kushwahaJust another weblog

PRADEEP KUSHWAHA

162 Posts

3241 Comments

दोहे // प्रदीप कुमार सिंह कुशवाहा //
—————————————
बाला फिर शिकार हुई लूटी उसकी लाज
अपंगता बैरन भई सोया पड़ा समाज
—————————————-
अंशदायी मात है पिता नही सौगात
काट तन जो पोस रही पुरुष लगावत घात
———————————————-
नारी निंदा मत करो नारी रस की खान
जन्मदात्री रही सदा राखो इसका मान
——————————————-
नारी पुरुष समान हैं भेद न करियो कोय
मिलकर जग रचना रचें मूढ़ मती मत होय
———————————————
नारी संगत है भली लें ममता की छाँव
नाना रूप धरे जगत हरि के दाबत पाँव
——————————————-
पुत्री जबहि गृह जनमती श्री वृद्धी हो तात
रिश्ता निभाय वो कई सबसे सुन्दर मात
——————————————-
पुत्री जनम है शुभ सदा संशय करो न भाय
दीक्षित कर भेजो उसे पीहर सुखी बनाय
——————————————–

२५-०७-२०१४
प्रदीप कुमार सिंह कुशवाहा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग