blogid : 7694 postid : 726932

प्रक्रति से खिलवाड --केदारनाथ त्रासदी

Posted On: 3 Apr, 2014 Others में

kushwahaJust another weblog

PRADEEP KUSHWAHA

162 Posts

3241 Comments

तिलक धारिबे घिसते चंदन

जय शिव जय रघुनायक नंदन

तेरी शरण सदा शिव प्यारे

विपदा हरत दरस हैं न्यारे

पाप पुन्य की गठरी बाँधे

जा पहुंचे जपते शिव राधे

अजब द्रश्य दीख तहं ग्रामा

भगती क्षीण पग पग ड्रामा

ऊँचे परवत छटा मनोहर

कटे वन सदा प्रक्रति धरोहर

सुंदर  नर नारी के वेषा

कटते तन मन उपवन देखा

पाप पुन्य पग पग संग चलते

अमरबेल सम पापी पलते

कथनी करनी राखे भेदा

सुख कस पाये सुन लो वेदा

प्रकृति संग खेल रहे फल से हो अनजान

कटते वन देखत रहे कैसे बचते प्रान

प्रदीप कुमार सिंह कुशवाहा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग