blogid : 7694 postid : 708228

हरियाली // कुशवाहा //

Posted On: 24 Feb, 2014 Others में

kushwahaJust another weblog

PRADEEP KUSHWAHA

162 Posts

3241 Comments

हरियाली
————-
कटते  प्रतिदिन वन  और  उपवन
बिगड़  रहा  है  प्रकृति  संतुलन
यह  व्यथा  तुम अपनी  न मानो
संकट में  है  धरती  जानो
—————————————
उर्वर  धरती  का श्रृंगार
पेड़ – पौधे लगें  अपार
हरियाली से होगी खुशियाली
यही है  जीवन  का आधार
————————————–
प्रदीप कुमार सिंह कुशवाहा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग