blogid : 8924 postid : 385

मेरा स्वप्न द्रष्टा ...! ---- जीवन निधि में उसकी भूमिका और अर्थवत्ता एक स्वप्न द्रष्टा सी थी ...; ह्रदय शीर्ष पर उसका स्थान रिक्त था किसी और को नहीं बिठाया था ...? असम्बद्धता के मायने ! वो,कुछ भी समझे ... त्याग,अभिमान अथवा असमर्थता ? पर,उसे कभी भूलाया नहीं था ...? कल ! एक लम्बे अन्तराल के बाद उसे देखा ... वो - समय की गति के साथ ... परिवर्तन के लाभ,सिद्धांत, जीवन मूल्यों की अर्थवत्ता और सार्थकता को समझा रहा था ...? मुझे लगा ! मैं पाषण युग की खोह से निकल उसकी परछाई को पकड़ने का प्रयास कर रही थी ; और मेरे अतीत का ...! स्वप्न द्रष्टा ...? जीवन-निधि से निकल वर्तमान को साथ लिए भविष्य की उड़ान पर दूर कहीं दूर जा चुका था ! सीमा सिंह ||||

Posted On: 8 Apr, 2013 Others में

khwahishein yeh bhi hainJust another weblog

Seema

195 Posts

470 Comments

मेरा स्वप्न द्रष्टा …!
—-
जीवन निधि में
उसकी भूमिका और अर्थवत्ता
एक स्वप्न द्रष्टा सी थी …;
ह्रदय शीर्ष पर
उसका स्थान रिक्त था
किसी और को नहीं बिठाया था …?
असम्बद्धता के मायने !
वो,कुछ भी समझे …
त्याग,अभिमान अथवा असमर्थता ?
पर,उसे कभी भूलाया नहीं था …?
कल ! एक लम्बे अन्तराल के बाद
उसे देखा …
वो – समय की गति के साथ …
परिवर्तन के लाभ,सिद्धांत, जीवन मूल्यों की
अर्थवत्ता और सार्थकता को समझा रहा था …?
मुझे लगा !
मैं पाषण युग की खोह से निकल
उसकी परछाई को
पकड़ने का प्रयास कर रही थी ;
और मेरे अतीत का …! स्वप्न द्रष्टा …?
जीवन-निधि से निकल
वर्तमान को साथ लिए भविष्य की उड़ान पर
दूर कहीं दूर जा चुका था !
सीमा सिंह ||||

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग