blogid : 11187 postid : 85

पता नहीं क्यूँ.........??

Posted On: 19 Nov, 2012 Others में

namaste!वन्दे मातरम........!!

pritish1

13 Posts

287 Comments

मुझे पता है मैं जो शिक्षा ले रहा हूँ वो मुझे गुलाम बनाने के लिए मेकॉले बना कर गया है….भारत में स्कूल कालेज और यूनिवर्सिटीज चलने का एक ही उद्देश्य है भारत के भविष्य को नस्ट कर दिया जाय किन्तु फिर भी मैं वही शिक्षा ग्रहण कर रहा हूँ…….यदि मैंने ऐसा नहीं किया अर्थात मेकॉले का गुलाम नहीं बना मैंने ऐसी शिक्षा ग्रहण नहीं की जो मुझे आर्थिक रूप से कमजोर और मानसिक रूप से नपुंशक बना दे तो भारत का तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग मुझे अनपढ़ अशिक्षित गवांर आवारा न जाने क्या क्या कहने लगेगा………..!!
मन में एक ख्याल आता है हमेशा कि क्यूँ कोई “अनपढ़ अशिक्षित गवांर कहे जाने वाला व्यक्ति कभी झूठ नहीं बोलता, किसी को धोखा नहीं देता, किसी से विश्वासघात नहीं करता…….कम पाकर भी संतुस्ट रहता है, मोह, माया, लोभ, क्रोध, घृणा, अहंकार जैसे कुविकारों से मुक्त होता है…….प्रेम, दया, करुणा, क्षमा, शांति, आनंद और संतुष्टि को अपना जीवन समझकर देवत्व का जीवन जीता है……..भले ही आज का नपुंशक भारतीय बुद्धिजीवी वर्ग उसे अपमानित क्यूँ न करता रहे……..!!”
ठीक उसके विपरीत “एक शिक्षित डिग्रीधारी प्रोफेसर, इन्जिनिअर, डॉक्टर, वकील, अधिकारी ९९% शिक्षित व्यक्ति झूठ बोलते हैं, धोखा देते हैं, विश्वासघात करते हैं…..अधिक पाने की लालसा में दूसरों के पेट में लाथ मारते हैं मोह, माया, लोभ, क्रोध, घृणा, अहंकार जैसे कुविकारों से उनका चरित्र सुसज्जित होता है……….प्रेम का तो अर्थ ही नहीं पता होता उन्हें, दया, करुणा, क्षमा, शांति, आनंद और संतुष्टि ये सब तो टाइमपास है ………!!”
अब जिज्ञासा होती है मन में की ऐसा क्यूँ है क्यूंकि सच में जो अच्छे होते हैं वे कभी स्कूल नहीं गए और उनके पास पढने के लिए पैसे भी नहीं होंगे और जो शिक्षित डिग्रीधारी प्रोफेसर, इन्जिनिअर, डॉक्टर, वकील, अधिकारी नपुंशक मेकॉले के गुलाम हैं वे सभी स्कूल गए हैं……..अब स्कूल में क्या है मेकॉले की गुलामी तो इन्शान का जानवर राक्षस बनना स्वाभाविक है, भारत और भारतीय संस्कृति का नस्ट होना स्वाभाविक है……..!!

वर्त्तमान सन्दर्भ में देखा जाय तो भारत में सबसे असुरक्षित और खतरनाक जगह कोई है तो वो है स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटीज और सभी शिक्षा केंद्र…..भारत के वर्त्तमान और भविष्य की दुर्गति का कारण मेकॉले द्वारा बनाये गए यही गुलामी के शिक्षा केंद्र हैं…….किन्तु सभी जिम्मेदार सम्माननीय माँ पिताजी परिवारवाले अपने बच्चों को प्रतिदिन इन संवेदनशील स्थलों पर भेजते हैं………भारत का बच्चा बच्चा स्कूल्स में होने वाले प्रतिदिन होने वाले राष्ट्रीय अपराध का साक्षी और भुक्तभोगी है……..क्लास 10th तक आते आते हर विद्यार्थी अपने चरित्र कर्म और विचारों से गुलाम दूषित और क्लेशित हो जाता है……..99% विद्यार्थी गन्दी पश्चिमी संस्कृति को अपना सब कुछ मान लेते हैं जो अच्छे विद्यार्थी होते हैं, उन्हें मार्क्स के प्रतियोगिता में फंशा दिया जाता है उनकी भी बुद्धि भ्रस्ट हो जाती है, भारतीय संस्कृति की ऐसी की तैसी होने लगती है, बॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड का खेल तो क्लास 5 से ही आजकल प्रारंभ हो गया है…….किशोर और युवा वर्ग सेक्स के मायाजाल में फंश कर अपना सब कुछ खो देता हैं……..नया ट्रेड आया है tution का, tution के नाम पर निकलते/निकलती हैं और कहीं ओर चले जाते/जाती है, भारत का भविष्य प्रारंभ होने से पहले ही समाप्त हो जाता है………..शिक्षा के नाम पर भारत के युवाओं को ही भारत के विनाश का कारण बनाया जा रहा है अभी जो पीढ़ी जवान हो रही है और आने वाले दस सालों में जवान हो जाएगी वो भारत के अंत का कारण बनेगी ये निश्चित है आज के 11 और 12 क्लास के लड़के और लड़कियों को सेक्स के अलावा कुछ नहीं आता, वे अपने आप को संभाल नहीं सकते घर, परिवार, राष्ट्र को कैसे संभालेंगे…….वहीँ दूसरी और प्रत्येक विद्यार्थी का परिवार अपने बच्चों को स्कूल और शिक्षा केन्द्रों में भेजकर निश्चिंत है शायद सोचते होंगे कुछ अच्छा बनेगा/बनेगी, कुछ अच्छा करेगा/करेगी, परन्तु सच कुछ ओर ही है, जो मैंने लिखा है……!!
मेकॉले का भूत भारत को नस्ट होता देख भारतीय संस्कृति की विकृति और भारतीय युवाओं के चारित्रिक पतन की खुशियाँ मनाता है……..वही आजाद के आंशु, नेताजी की विवशता, क्रांतिकारियों की आत्मा चीखती तड़पती नज़र आती है, कांप उठता है एक सच्चे भारतीय का मन, क्रोध की ज्वाला जलती है, खून के आंशु निकलते हैं, दिल पिघलता है पर शरीर वज्र बन जाता है ………………!!
वन्दे मातरम वन्दे मातरम वन्दे मातरम वन्दे मातरम…………!!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग