blogid : 14090 postid : 717397

~~~~~~ चादर की सिलवटें ~~~~~~

Posted On: 14 Mar, 2014 Others में

मैं-- मालिन मन-बगिया कीमन-बगिया में भाव कभी कविता बन महके हैं, कभी क्षोभ-कंटक बन चुभे हैं, कभी चिंतन-नव पल्लव सम उगें..

priyankatripathidiksha

29 Posts

13 Comments

बड़े सवेरे उठने पर
गनती हूँ भोर में पड़ी
चादर की सिलवटें
पता तब चलता है कि
कितनी करवटें बदली हैं मैंने
अब सोना क्या है !
क्या जगना है !
बस दिन-रैन
बिन मदिरा, बिन भांग के
खुमार में उनके ‘शब्दों’ के
डूबी सोचती हूँ
फागुन की कौन तिथि होगी ‘रंगभरी’ ?
बरसों बाद
अबकी होली खेलूंगी मैं
रंग चुकी जो उनके रंग में
ओढ़े घूम रही हूँ यह
चटख रंगों से भीगा
‘अनुराग-आवरण’ !
गेहूं की बालियों से सजे खलिहान में
अपने नर संग मादा तितर
मुझे बड़ा बिराती है
संभल-संभलकर गुजरती हूँ
जब टेढ़े-पतले मेड़ों से मैं
मोरनी भी मोर को टेर लगाती है
सहती हूँ सब
बस यह सोचकर मैं कि
‘वे’ आयेंगे तो मैं भी कितना
इठलाउंगी-इतराउंगी
कभी मुस्कराउंगी
कभी शरमाउंगी
एक-एक को ‘उनसे’ मिलवाउंगी !
— प्रियंका त्रिपाठी ‘दीक्षा’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग