blogid : 14090 postid : 782315

दौर तरक्की का

Posted On: 9 Sep, 2014 Others में

मैं-- मालिन मन-बगिया कीमन-बगिया में भाव कभी कविता बन महके हैं, कभी क्षोभ-कंटक बन चुभे हैं, कभी चिंतन-नव पल्लव सम उगें..

priyankatripathidiksha

29 Posts

13 Comments

भागादौड़ी के इस दौर में
मैं न चाहकर भी
तरक्की के पीछे भाग रहा
चाहता हूँ सुस्ता लूँ ज़रा
पर इसके लिए समय कहाँ ?
डर है कि कहीं
अनदेखी-अंजानी-अस्थूल तरक्की
निकल न जाए
मुझसे मीलों आगे
या मुझसे पहले कोई
पूंजीपति उसे ज़ब्त न कर ले
वाकई यह उसका कालाजादू ही है
जो मेरी खुली आँखें भी
साथ दौड़ रहे अपनों को
नहीं पहचान पा रहीं
आपस में एक-दूसरे से आगे निकलने की
ओह ! यह कैसी अंधी दौड़ है लगी?
अब मैं थक गया हूँ
मैं तनिक ठहरना चाहता हूँ
बिन नींद की गोली के सोना चाहता हूँ
माँ ! तुम कहाँ हो माँ !
मुझे अपनी गोद में सुलाकर
मीठी लोरी सुनाओ ना
नींदरवन से नींदिया को बुलाओ ना !!

— प्रियंका त्रिपाठी ‘दीक्षा’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग