blogid : 14090 postid : 778762

वह भी तो कभी लड़की ही थी !

Posted On: 31 Aug, 2014 Others में

मैं-- मालिन मन-बगिया कीमन-बगिया में भाव कभी कविता बन महके हैं, कभी क्षोभ-कंटक बन चुभे हैं, कभी चिंतन-नव पल्लव सम उगें..

priyankatripathidiksha

29 Posts

13 Comments

पैदा होते ही माँ का
आंसुओं से भीगा मैंने
देखा चेहरा
खुद को घूरती देखीं
कई जोड़ी आँखें
अब पहचानती हूँ पर
उस समय तो उन्हें न पायी पहचान
बस टुकुर-टुकुर ताकती रही
मैं अनजान
शायद माँ के दुःख को भी न समझ पाती
यदि तब दादी ने आकर
लड़की जनने पर
उन्हें खरी-खोटी न सुनाई होती
ग्लानि से भर उठी मैं उसी क्षण
जानकर यह कि
मैं ही हूँ माँ के आंसुओं का कारण
आखिर कुसूर था उस जननी का क्या ?
शायद यह कि
गर्भ में ही मुझे क्यूँ न मार दिया !
लेकिन कैसे वो मुझे मारने देती
आखिर वह भी तो कभी
लड़की ही थी !

— प्रियंका त्रिपाठी ‘दीक्षा’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग