blogid : 14090 postid : 746552

तरुणावस्था की तरुणाई में

Posted On: 27 May, 2014 Others में

मैं-- मालिन मन-बगिया कीमन-बगिया में भाव कभी कविता बन महके हैं, कभी क्षोभ-कंटक बन चुभे हैं, कभी चिंतन-नव पल्लव सम उगें..

priyankatripathidiksha

29 Posts

13 Comments

जूझ रहा हूँ मैं खुद से
अपने वजूद को पाने के लिए
जिसकी अबतक मुझे कोई ज़रूरत न हुई
पर अब हर किसी से लड़ पड़ता हूँ मैं
एक ज़द्दोज़हद है खुद को समझने की
स्व को तलाशने की
न इस पार न उस पार
बस त्रिशंकु-सा लटका हुआ हूँ मध्य में
तितली संग कभी उड़ता हूँ मैं
पहुँच जाता हूँ सितारों के घर
अभी चाँद से पूछता ही हूँ कुसलक्षेम क़ि
पतझड़ सा बिखर जाता हूँ अगले ही क्षण
स्वप्निल नीले नभ से गिरना
वास्तविकता के कठोर धरातल पर याद दिलाता है
काफी कुछ
जो बन चूका है मेरा बीता कल
प्रतीक्षारत हूँ मैं
कब बीतेगा यह बेचैनी और उलझनों का दौर
कब जीवंत होगा सपनों का शहर ?
— दिक्षा त्रिपाठी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग