blogid : 812 postid : 773662

कैसे कहें कि हम आज़ाद है?

Posted On: 13 Aug, 2014 Others में

general dibbaJust another weblog

punitasingh

11 Posts

7 Comments


ये कैसी आज़ादी
जिसमें

कानून का रक्षक भी बलात्कारियों से
अपना हिस्सा मांगता  हैं।

डरी हुई,लुटी हुई लड़की को

इतना डराता   हैं कि
बाप अपनी बेटी को

मुँह सिलने को कहता है।

ये कैसी  आज़ादी
जिसमें
रक्षक ही

हवश के अंधों को

सुरक्षा कबच देकर

कामांध लड़कों  की
भूल को बचाता  है ।

ये कैसी आज़ादी
जिसमें-

उंगली उठती है तो सिर्फ औरतों पर

अंधेरों -उजालों में
जो गुनाह कर आतें हैं

नहा धो पावन हो जातें हैं

सुबह मंदिर में माथा टेक

रात के गुनाह उनके
सब मिट  जातें हैं

ये कैसी आज़ादी –
जिसमें

एक लड़की ,एक बच्ची,
अपने ही घर में
महफूज़ नहीं है

मंदिर -देबालय-गिरिजा
मौजूद है हर जगह
जिस्म के भूखे भेड़िये
जिस देश में –
एक बूढ़ी ,एक प्रौढ़ महिला तक

महफूज़ नहीं है

उस देश में ये कहते हुए

शब्द जुवान से बाहर

आने से  झिझकतें हैं

कैसे कहें की हम आज़ाद है ?
पुनीता सिहं

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग