blogid : 4811 postid : 1261758

प्रमाण नही लेकिन संभावना प्रबल

Posted On: 24 Sep, 2016 Others में

bharatJust another weblog

rachnarastogi

172 Posts

240 Comments

प्रमाण नही लेकिन संभावना प्रबल
======================
इसमें कोई संदेह नही है कि दवा खपत का भारत विश्व का सबसे बड़ा बाजार है और भारत की सारी एलोपेथिक, होमियोपैथिक ही नहीं बल्कि आयुर्वेदिक दवा निर्माता कम्पनियाँ भी शतप्रतिशत चीन निर्मित कच्चे माल से ही केप्सूल सिरप टेबलेट टिंक्चर और काढ़े आदि तैयार करती हैं और मार्केटिंग कम्पनियाँ अपने अपने दाम पर अपना माल बेचने के लिए साम दाम दंड भेद सारे हथकंडे अपनाती हैं /यानि विशुद्ध रूप से चीन का ही माल बिकता है और सुरक्षा की दृष्टी से भी बरसात और सर्दियों का मौसम भारत के प्रतिकूल रहता है क्योंकि चीन पाकिस्तान भारत से अधिक ऊंचाई के कारण अधिक सुरक्षित हैं और भारतीय सैनिक सर्दियों और बरसात में किसी भी युद्ध से बचने का प्रयास करते हैं /चीन पाकिस्तान से सटी भारतीय सीमायें निश्चित रूप से संवेदनशील तो हैं हीं लेकिन आतंकी घुसपैठ ने भी भारत की नाक में दम कर रखा है /फौजी गतिविधियों में सदैव सक्रिय रहने वाला सहारनपुर अम्बाला मेरठ हिसार लोनी रुड़की दिल्ली और उधर गुजरात का कच्छ तथा राजस्थान का जैसलमेर क्षेत्र इस समय एक ऐसे वायरल बुखार की चपेट में है जिससे सिविल ही नहीं बल्कि सेना हॉस्पिटल तक मरीजों से लबालब भरे हैं और इस वायरल बुखार को सही सही तो डॉक्टर भी समझ नही सके हैं क्योंकि यह बुखार हड्डियों और जोड़ों में भयंकर दर्द पैदा कर रहा है /कहने का तात्पर्य यही है कि फौजी जब खड़ा ही नही हो पायेगा तो युद्ध क्या करेगा अब चाहे तेरह लाख सैनिक ही क्यों न हों ?घर घर में पहुँच बना चुका यह रहस्मयी बुखार से ग्रस्त बीस लाख आबादी वाला मेरठ जैसा शहर ही एक दिन में एक लाख पैरासिटामोल की गोलियां खा रहा है /बाजार सुनसान हुए पड़े हैं और जिंदगी अस्त व्यस्त /जिन घरों में बिजली है वहां हर घर में इलेक्ट्रिक मॉस्किटो रेपेलेंट मशीन चलती है और जहाँ बिजली नही है वहां मच्छर भगाने वाली धुप बत्तियां जल रही हैं और डॉक्टरों के अनुसार डेंगू मलेरिया चिकनगुनिया फैलाने के मच्छर जिम्मेदार है परंतु जिनको मच्छर नही काट रहे हैं बुखार तो उनको भी हो रहा है यानि निश्चित रूप से कुछ और कारण इस बुखार को महामारी बना रहा है और संभवतः चीन या पाकिस्तान अपरोक्ष रूप से कोई रासायनिक युद्ध तो भारत के विरुद्ध नही लड़ रहे हैं जिसमे मनुष्यों का शरीर अपाहिजों जैसा बन रहा है और दवाइयों के रूप में चीन का आर्थिक विकास हो रहा है /प्रमाण तो नही है लेकिन संभावनाएं प्रबल जरूर हैं कि बुखार की आड़ में कहीं चीन और पाकिस्तान भारत को आर्थिक और सैनिक क्षति पहुंचा रहे हों /भारत सरकार को इस बुखार के संक्रमण पर अतिगंभीर होना ही पड़ेगा /

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग