blogid : 1448 postid : 363

जीने की ललक में मौत को गले लगाती जिन्दगी

Posted On: 5 Apr, 2013 Others में

सीधी बातसुलझी सोच, समग्र विकास

Rachna Varma

103 Posts

764 Comments

अभी बोर्ड की परिक्षाये खत्म हुयी है अभी परीक्षा परिणाम भी नहीं आये और अखबारों में नम्बर कम आने की आशंका के चलते कितने ही बच्चो के द्वारा अपनी जीवन लीला समाप्त करने की खबरे आनी शुरू हो गयी | आश्चर्य होता है यह कैसा समय शुरू हुआ है कि मात्र पन्द्रह -सोलह वर्ष की आयु में अपने करियर को ले कर इतनी चिंता ? समझ में नहीं आता की कहाँ खो गया वह मासूम बचपन जिसमे सिर्फ शैतानियाँ होती थी याद करो तो लगता है की कितना सुकून भरा बचपन था पढाई तो कभी हौव्वा रहा ही नहीं जो फर्स्ट आता है आता रहे हमें तो पास हो जाने भर से ही मिठाइयाँ मिल जाती थी थोडा बहुत डांट -डपट इससे अच्छा नम्बर ला सकते थे !! और जैसे की रूटीन में हर पैरेंट्स अपने बच्चो के साथ पेश आते है मगर पढाई -लिखाई भी इतना आतंकित कर सकता है यह आज के इस दौर को देखने पर समझ में आता है दरअसल पहले के लोग अपनी जिन्दगी को वर्तमान में जी लेते थे भविष्य की इतनी चिंता नही रहती थी की क्या जमा कर ले प्यार ,रिश्ते मोह , माया सभी की जरुरतो को देखना और अपने वर्तमान में ही खुश रहना शायद उनकी प्राथमिकता होती थी लेकिन भविष्य की चिंता इस पीढ़ी की सबसे बड़ी समस्या बन चुकी है और यही कारण है की छोटे -छोटे बच्चो को अपना भविष्य अंधकारमय नजर आने लगा है रही सही कसर दूसरों के साथ तुलनात्मक प्रतिस्पर्धा के चलते अपने अंदर इतनी कमियां नजर आने लगती है कि उन्हें अपने जीवन को समाप्त करना ज्यादा आसान रास्ता समझ में आता है | बहुत जरुरी है कि हर पैरेंट्स अपने बच्चो की सिर्फ जरुरत न पूरा करे बल्कि उसके साथ ज्यादा से ज्यादा समय भी गुजारे सबसे बड़ी बात कि एच एस सी या एस एस सी कि परीक्षाओ के मार्क्स के आधार पर जिस भी कालेज में या जिस भी ब्रांच में दाखिला मिलता हो उसे सिर्फ एक आधार समझे क्योंकि इतनी कम उम्र होती है कि अगर साइंस ले कर पढ़ रहे हो तो अचानक लगता है कि इस विषय में बहुत मेहनत है इससे बढिया आर्ट या कामर्स ले कर पढ़ लेते तो अच्छा रहता और सबसे अच्छी बात यह है कि एक नहीं अनेक विषय है और सभी के साथ इतने क्षेत्र जुड़े है आगे बढ़ने के आज टेक्न्लाजी इतनी विकसित हो चुकी है जानकारी का पूरा संसार एक क्लिक पर कितनी जानकारियां उपलब्ध हो जाती है | यह कहना की परिवार छोटा हो रहा है और बच्चो को ज्यादा देखभाल नहीं हो रही है तर्कसंगत नहीं है अगर परिवार छोटे हो रहे है तो माता-पिता भी पहले से कही ज्यादा अपने बच्चो का केयर भी कर रहे है हाँ यह बात अलग है कि बच्चो से उनकी अपेक्षाए बहुत बढ़ चुकी है इस बात का विशेष ख्याल रखना पड़ेगा कि बच्चो पर अपनी महत्त्वकांक्षा का बोझ न डाले और उन्हें अपनी जिन्दगी जीने का मौका दे सबसे पहले तो उन्हें अपने बच्चो को समझना होगा हर बच्चे की काबिलियत अलग -अलग होती है उनकी तुलना किसी के साथ न करे वे जो भी है जैसे भी है अपने आप में महत्त्वपूर्ण है वे औरो से अलग है वे अपने माता -पिता के लिए बहुत मायने रखते है | उनकी जिन्दगी सबसे कीमती है अगर जीवन बचा रहेगा तो बहुत सी नयी राह मिलेगी जिस पर चल कर वे एक सुन्दर भविष्य का निर्माण कर सकते है |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग