blogid : 23144 postid : 1277962

-:मैया शेरावाली:-

Posted On: 13 Oct, 2016 Others में

Ghazel Ke Bahane, Desh Ke TaraneJust another Jagranjunction Blogs weblog

raisahabmauryamadhukar

24 Posts

6 Comments

शेर- जय दुर्गे शमनी, मम नाव को पार लगा दीजै |
पूजन अर्चन का ज्ञान नहीं, ममतामयी मातु कृपा कीजै ||
दिल के फूलो का है गजरा, अरमानो की चुनर लीजै |
शरणागत आज पड़ा “मधुकर” करके कृपा दरसन दीजै ||
गजल:- महिमा दुनिया में जिसकी है न्यारी शेरावाली है जगदम्बे माता |
धारण करती जो कर में कटारी, शेरावाली है जगदम्बे माता ||
भर भक्तो की हरने के खातिर, नाना आयुध कर में विराजे |
शूलधारी गदा चक्रधारी, शेरावाली है गजदम्बे माता ||
हे महायोगिनी ज्ञान रुपे, महिमा तेरी अजब है निराली |
कितने पापी अधम को है तारी, शेरावाली है गदम्बे माता ||
दीन दुखियो का उपकार करती, भक्तो की अपने झोली है भरती |
दुस्ट दल को है पल में संहारी, शेरावाली है जगदम्बे माता ||
आए है द्धार पर आज तेरे, अपनी झोली फैलाये हुए हम |
शरणागत माता मधुकर तिहरी, शेरावाली है जगदम्बे माता ||

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग