blogid : 3672 postid : 147

दिल की बातें - कुछ यादें, कुछ आंसू ....

Posted On: 6 Feb, 2011 Others में

लोकतंत्र© Rajeev Dubey (All rights reserved)

rajeevdubey

44 Posts

644 Comments

हमने तो सदाएं बहुत दी थीं
पर वे सब लौट आयीं
इस ठंड में ठिठुरती
शायद उनकी गली का हर दरवाज़ा बंद था…!
…………………………………………………………..
इस जिन्दगी में हँसने के लम्हे
पहिले ही इतने कम हैं
और एक तुम हो कि बरस दर बरस
चुपचाप जिए जाते हो |
…………………………………………………………….
उम्मीदों को इतना भी न बढ़ाओ
कि जिन्दगी एक मुसीबत बन जाये !
……………………………………………………………..
हमने तो जिन्दगी में वो दिन भी देखे हैं
जब अपना ही साया साथ छोड़ जाता है
इसलिए ऐ दोस्त ! बेफिक्र रहना –
शिकायत भरी आवाजें इस ओर से न आयेंगी !
…………………………………………………………….
अभी मत आवाज़ दो, सोने दो मुझे
जो जाग गया तो फिर याद आयेगी ….|
……………………………………………………………..
दिल के अँधेरे इतने घने हो गए हैं
कि अब तेज़ धूप में भी छाँव की दरकार नहीं होती |
…………………………………………………………………..
खो दिए हैं हमने इस शहर में
खुशियों के अनमोल खजाने
अब वक्त माँगता है हिसाब
मैं क्या करूँ ?
………………………………………………………………..
कोई छाँह नहीं, कोई सहारा नहीं
जिन्दगी इस शहर में कोई तुम्हारा नहीं |
………………………………………………………………..
इन रास्तों पर मत आओ
यहाँ तो हम हैं
तेज हवाएं हैं
और दिल में एक घाव है |
………………………………………………………………..
कहने को तो अब हम भी हँस लेते हैं महफ़िलों में
पर ऐ ज़माने जो घाव तूने दिए, हम भूले नहीं हैं !
………………………………………………………………..
वो काफिले सजाते रहे
और हम करते रहे इंतजार
पर अफ़सोस – वक्त को न थी किसी की परवाह
वह तो दूरियां और बढ़ा गया |
………………………………………………………………..
वक्त तू क्यों इतना विरोधी है –
करता है सांठ गाँठ हवा के हर झोंके से,
कि बन थपेड़ा वह मुझे चोट पहुंचाए,
जिन्दगी के हर मोड़ पर –
तू मुझे कठिन राहें दिखाए,
वक्त तू क्यों इतना विरोधी है !
……………………………………………………………….
कुछ संग छोड़ गए
कुछ बने विरोधी
और कुछ बन अजनबी
चुप साध गए |
क्या जाने कैसी भूल हुई
कि हम सब कुछ ही हार गए !
………………………………………………………………
अकेले ही अकेले हम
न जाने कहाँ आ गए
हमने तो न तमन्ना की थी
यूं सूनी रातों को जीने की !
……………………………………………….. …………….
अपने अपने दुःख
प्रतीक्षाओं के लम्बे अन्तराल
पतझड़ के मौसम
पत्ते धूल में लावारिस
तेज़ अंधड़
सूनी आँखें
कदाचित यह था अपर्याप्त –
तभी तो रे मन
तू भी टूट गया !
…………………………………………………..
पथराई आँखें शून्य तकतीं
मन में अबुझ प्यास
सूखे होंठ
ये तेज़ हवाएं
लड़खड़ाते कदम
अनजान राहें
अजनबी चेहरे
नियति ! मैंने ऐसा क्या बिगाड़ा था
जो इस मोड़ पर ले आयी !
………………………………………………………..
मत रो, रे मन, तू बात बात पर
हर बात यहाँ पर कडुवी है
चुपचाप चला चल तेज़ धूप में
हर छांह यहाँ पराई सी है |
…………………………………………………………
एक शाम और गुज़र रही है
तन्हा – तन्हा |
सौंप दिए हैं
उसने
सारे रंग
अपने
न जाने किसको ?
मेरे हिस्से में आयी है
फिर से
रात की कालिमा |
जीना है मुझे
एक बार और
सुबह का
करते हुए
इंतजार… |
………………………………………….
वक्त विरोधी है
पर नहीं दुश्मन
जल्दी ही बदलेंगे दिन |

मत तौलो मुझको
इन विपरीत दिनों में
पछताओगे |

जल्दी ही फिर उठ बैठूंगा
यह ठोकर क्या चीज़ है
मैं फिर जीतूंगा….!
………………………………………………………

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग