blogid : 3672 postid : 77

एक बुरे आदमी का आत्म-हत्या के पूर्व दिया गया वक्तव्य

Posted On: 4 Dec, 2010 Others में

लोकतंत्र© Rajeev Dubey (All rights reserved)

rajeevdubey

44 Posts

644 Comments

तुमने कभी नहीं मानी मेरी बात ।
मैंनें तुमसे कहा था कि
कह दो इन लोगों से – हंसना छोड़ने को
पर तुमने तो रोते हुए लोगों को भी हँसाने की योजनायें बनाईं ।

 

 

मैंनें कहा कि
तुम इन हवाओं को इतना मंद – मंद बहने से रोको
और कहो इनसे धूल उड़ाने को
जो लोगों की आंखों में भर जाये ।

 

 

पर आश्चर्य
तुमने तो आँधियों को भी
समझा बुझा कर
धीमे धीमे बहने को कहा ।

 

 

और मैंने चाहा था कि
तुम नदियों से कहो कि
वे बादलों की सहायता लें
और उफ़न कर तबाही मचायें ।

 

 

तब तुमने एक बार फिर
मेरी न मानी
और ज्यादा बादलों को
सूखे वाले इलाकों में भेज दिया ।

 

 

मैंने बच्चों की मासूमियत छीननी चाही
फूलों की खुशबु छीननी चाही
इंसानी रिश्तों को ख़त्म करना चाहा
धरती को बाँटना चाहा ।

 

 

और भी न जाने क्या क्या
अरमान थे मेरे
पर अफसोस
तुमने मेरा कभी भी साथ न दिया ।

 

 

इसलिये ऐ मेरी जिंदगी
में आज
तेरी सारी अच्छाई के साथ
तेरी  हत्या  कर रहा हूँ ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग