blogid : 3672 postid : 231

समय

Posted On: 18 Feb, 2011 Others में

लोकतंत्र© Rajeev Dubey (All rights reserved)

rajeevdubey

44 Posts

644 Comments

समय ! तेरे अजस्र प्रवाह में –
गुजरते पलों की गहराईयों में,
मैं न जाने कहाँ से कहाँ…
चला आया हूँ ।
 

मैं खोजता रहा शांति कभी,
और फिर क्षोभ ज्वार मॆं डूब,
कभी किसी पदचाप को सुन –
अनजानी नींदों से जागा हूँ ।

 

सत्य साधक बना कभी,
फिर व्यथित सा अकथ्य कथा बना,
कुछ आँसू ढुलका…
न जाने किसे बुलाता रहा हूँ ।

 

तू काल ! चलता रहा संग,
मैं तेरे अनजान आयामों में –
करता अनगिनत उपाय,
तुझे खोजता रहा हूँ ।

 

मैं जीवन के वैरागी क्षणों में,
अनुभूति को ‘परा’ की ओर से –
खींच कर जाने अनजाने,
नए आवरण ओढ़ता रहा हूँ ।

 

नए सूर्यों को हर सबेरे,
बिखेरते अपनी लालिमा और कांति,
हर सांझ डूबते, खो जाते देखता –
निःशब्द निर्जनों में घूमता रहा हूँ ।

 

मैं करता रहा हास,
फिर रूक कर अचानक किसी पल,
समय ! तेरी डोर खींचने को,
विचारों मॆं लड़ता रहा हूँ ।

 

मैं मन्द शीतल हवाओं में,
छोटी सी कुटी छा,
हर सांझ नितांत अकेला,
तूफानों को स्वप्न करता रहा हूँ ।

 

समय ! तेरे हास के अर्थ –
जान कर भी न जाने क्यों…
हर दिन जाने अनजाने…
नए नए बिम्बों में ढलता रहा हूँ ।

 

मैं छायाओं को अपना समझ,
घुल मिलकर संग गीत कहते,
फिर उनके बढते आकार …
यकायक विलीन होते देखता रहा हूँ ।

 

कभी बना तू कराल,
या तुझे बनाकर अपनी ढाल,
तू मेरे संग या मैं तेरे –
मैं यह सूत्र खोजता रहा हूँ ।

Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग