blogid : 3672 postid : 192

ओ सपनों के सौदागर ...

Posted On: 9 Feb, 2011 Others में

लोकतंत्र© Rajeev Dubey (All rights reserved)

rajeevdubey

44 Posts

644 Comments

ओ सपनों के सौदागर तू दूर देश से आ जा,
मेरी अकेली रातों को कुछ स्वप्न बीज दे जा |

 

जब गहराए धरा पर काला अमिट अँधेरा
तब रोपा जाये निशा भूमि में स्वप्न बीज मेरा |

 

स्वप्नों के नन्हे पौधे निकलें चांदनी के पोषे ,
और झूम हवा में फिर उनमें तारासम कलियाँ नन्हीं फूटें |

 

हों अनगिन व्यापार फिर उन स्वप्न वृक्षों की छांवों में ,
टूटें मन, दुःखी तन और टीस उठे फिर घावों में |

 

कभी उदास फिर हास उलास अरु आश निराश का हो फेरा,
तो कभी चमकीली आँखें ले चिड़ियाँ आ डालें डेरा |

 

पर सजल हों न आँखें मेरी जब उठे नींद का डोला ,
ओ सपनों के सौदागर, लगा तू, ऐसे सपनों का मेला |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग