blogid : 3672 postid : 185

थोड़ा हँस के देखो ...

Posted On: 8 Feb, 2011 Others में

लोकतंत्र© Rajeev Dubey (All rights reserved)

rajeevdubey

44 Posts

644 Comments

अकथ्य कथा बने तुम कब तक चलते जाओगे –
कब तक यूँ स्वप्नों की गठरी ले मन को भटकाओगे ?

 

मैं देख रहा सितारे कब से – ये यूँ ही चमक रहे –
तुम कब तक इनकी चाह लिए ऊँचे चढ़ते जाओगे !

 

ये देखो मेघ घुमड़-घुमड़ कर धरती पर बरस चले…
कुछ बूँदों को पा कर पत्ते देखो कैसे चमके !

 

फिर भी तुम, इन सबके बीच, चुपचाप चले जाओगे –
आकांक्षाओं के बोझ तले कब तक खुद को तरसाओगे ?

 

थोड़े से आँसू और थोड़ी सी खिली हुई हँसी…
इन सबको ठुकरा कर अब तुम कितना पाओगे ?

 

बोलो कब तक तुम यूँ ही व्यथित रहोगे –
थोड़ा हँस के देखो अद्भुत सुख पाओगे !

Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग