blogid : 14057 postid : 1383148

ऋतुराज बसंत अलविदा ना होता

Posted On: 3 Feb, 2018 Others में

मेरी आवाज़ सुनोभारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

Rajesh Kumar Srivastav

104 Posts

421 Comments

काश कोई वक्त की पहिया थमा देता /
तो ऋतुराज बसंत अलविदा ना होता /
कोकिलों की कुहुक, भ्रमरों की गुंजार /
आमों की मंजरियाँ, टेसुओं की बहार /
धरती का यौवन कभी कम ना होता /
काश कोई वक्त की पहिया थमा देता /
तो ऋतुराज बसंत अलविदा ना होता /
नव पल्ल्व, नव उमंग, नव जीवन, /
स्फूर्ति, जोश, मादकता से भरा मन
प्रीत और मनुहार कभी ख़त्म ना होता /
काश कोई वक्त की पहिया थमा देता /
तो ऋतुराज बसंत अलविदा ना होता /
कोमल कपोलें और सुगन्धित हवाएं /
ओढ़ी पिली चुनरियाँ मन को बहकायें /
फागुन का रंग कभी मद्धम ना होता /
काश कोई वक्त की पहिया थमा देता /
तो ऋतुराज बसंत अलविदा ना होता /

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग