blogid : 14057 postid : 1205689

गुस्सा

Posted On: 12 Aug, 2016 Others में

मेरी आवाज़ सुनोभारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

Rajesh Kumar Srivastav

104 Posts

421 Comments

गुस्से से जब वे लाल हो गए /
बुद्धि से तब वे कंगाल हो गए /
लिए निर्णय जब – जब वे गुस्से में /
मत पूछो, हाल उनका बेहाल हो गए /
गुस्से की आग झुलसाता किसी को /
क्रोध की अग्नि जलाता है खुद को /
रखो इसे बहुत दूर या फिर काबू में /
रखके पास इसे कई बेसमाल हो गए /
गुस्से ने अब तक बनाया है किसको /
क्रोध एक मीठा जहर उजाड़ा है सबको /
इस चिंगारी को क्यों भड़कने दे हम /
समझाकर यही हम निढाल हो गए /
राजेश कुमार श्रीवास्तव
(चित्र गूगल से साभार )images (7)

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग