blogid : 14057 postid : 1352426

ना मैं भगवे को जानता हूँ, ना मैं हरा पहचानता हूँ /

Posted On: 12 Sep, 2017 Others में

मेरी आवाज़ सुनोभारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

Rajesh Kumar Srivastav

104 Posts

421 Comments

ना मैं भगवे को जानता हूँ ना मैं हरा पहचानता हूँ /
लहराए शान से तिरंगा मैं अपनी शान समझता हूँ /
आ जाय कभी विपदा अपने इस तिरंगे की आन पे –
कटाने को शीष इसके खातिर, मैं तैयार रहता हूँ /
ना मुझे मस्जिद को तोड़ना है ना मंदिर बनाना है /
मुझे तो अपनी जन्मभूमि का सब कर्ज चुकाना है /
लेकर जन्म पाया है जहाँ का पवित्र अन्न जल वायु /
उसी की खातिर है जीना उसी के लिए मर जाना है /
ना कोई यहाँ हिन्दू ना ही मुश्लिम, सिख ना ईसाई /
जो इस धरती को माँ समझा वो सब अपने ही है भाई /
किसी ने धर्म के खातिर इसे यदि नुकसान पहुंचाया /
उन सबको सबक सीखने को ना बरतेंगे कोई कोताई /
तिलक, टोपी और क्रॉस सबकुछ अपने साथ रखेंगे /
सिखलाये देशप्रेम उन सब धर्मों का सम्मान रखेंगे /
पढ़ेंगे गीता , बाइबिल, कुरआन, गुरुबाणी फिर भी –
सबसे ऊपर अपना प्यारा पवित्र संबिधान रखेंगे /

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग