blogid : 14057 postid : 1360835

पुरानी दीया जलाते है /

Posted On: 14 Oct, 2017 Others में

मेरी आवाज़ सुनोभारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

Rajesh Kumar Srivastav

104 Posts

421 Comments

चलो नए दीयों के साथ-साथ
उन पुराने दीयों को भी –
जलाते है /
सुख गई है तेल
लेकिन पलीते बचे है /
ऐसे दीयों में-
फिर से तेल डाल आते है /
पुरानी दीया जलाते है /
जिन दीयों में तेल भी है /
पलीते भी है /
लेकिन हवा के झोकों ने –
जिसके लौ को छीन लिया है/
उनमे फिर आग लगाते है /
पुरानी दीया जलाते है /
कुछ ऐसे भी दिए है
जिसमे तेल भी है
पलीते भी है
लेकिन वो जलने के –
मौकें ही नहीं पाए है /
उन्हें जला कर अपने प्रकाश फ़ैलाने का
मौक़ा दे आते है /
पुरानी दीया जलाते है /
कुछ दीयों में सुराख़ है /
तेल बह गए है /
पलीते जल कर राख बन गए है /
उन दीयों के सुराख़ –
भर आते है /
फिर से तेल और नए पलीते डालकर
उन्हें रौशनी फ़ैलाने का
मौक़ा भी दे देते है /
पुरानी दीया जलाते है

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग