blogid : 14057 postid : 1336888

मैं मोबाइल फोन हूँ /

Posted On: 28 Jun, 2017 Others में

मेरी आवाज़ सुनोभारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

Rajesh Kumar Srivastav

104 Posts

421 Comments

मैं मोबाइल फोन हूँ /
वर्तमान युग में –
मानवता के खातिर –
मानव द्वारा आविष्कृत –
एक अभूतपूर्व खोज /
मैंने सिमटा है दूरियों को –
ताकि इस विशालकाय पृथ्वी को
बनाया जा सके एक गांव /
मैंने मिलाये है –
कई अनजानों को /
बधें है कई जोड़ों पवित्र बंधन में –
मेरे ही खातिर /
मै ही कैमरा हूँ /
मैं ही घडी हूँ /
बैंकिंग, टीवी, रेडिओ
सबकी सुबिधा देने वाला –
मैं एक जादुई छड़ी हूँ /
फिर भी मुझपर आरोप लगते है /
निजता भंग करने के /
रिश्तों को तोड़ने के /
तो कभी ठहराया जाता है मुझे –
मानव को असामाजिक
रूप देने के लिए /
फिर भी मै अपने अंदर –
नित नए परिवर्तनों के लिए –
तैयार हूँ /
ताकि बना सकू –
मानव जीवन को बेहतर से और बेहतर /

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग