blogid : 14057 postid : 1108975

रावण दहन

Posted On: 17 Oct, 2015 Others में

मेरी आवाज़ सुनोभारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

Rajesh Kumar Srivastav

104 Posts

421 Comments

दो पैर , दो भुजाएँ /
चौड़ी छाती, मजबूत कंधे –
बिशालकाय शरीर बनाई /
उस पर दस शीश लगाई /
पुतला निस्तेज पड़ा था /
फिर उसे सहारा दिया –
खड़ा किया /
फिर भी पुतला चुप था /
हाथों में हथियार थमाएँ /
आँखों में नफ़रत का रंग भरा /
पुतले में कोई हलचल ना हुई /
फिर भी मन ना भरा /
हाथ , पैर , पेट, पीठ ,
एक-एक अंग में बारूद भरा /
पुतला डरा, सहमा /
बारूद के जहर से कराहा /
लेकिन कुछ ना किया ना कहा /
फिर उस बारूद में आग लगा दी गई /
पुतला धूं- धूं करके जलने लगा /
अपने को बचाने के लिए /
छटपटाने लगा /
जलते बारूद बिखरने लगे /
लोगों पर गिरने लगे /
लोग जलने लगे /
गिरने -पड़ने लगे /
भागने चिल्लाने लगे /
एक दूसरे को कुचलने लगे /
अगले दिन लोगों ने कहा /
रावण, सचमुच बड़ा शैतान था /
पुतले की आत्मा ने अट्टाहास किया /
रावण बड़ा शैतान था ?
बनाया इसको –
वो क्या इंसान था ?
images

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग