blogid : 14057 postid : 1136770

लाईक, कॉमेंट और शेयर ( कहानी )

Posted On: 4 Feb, 2016 Others में

मेरी आवाज़ सुनोभारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

Rajesh Kumar Srivastav

104 Posts

421 Comments

सुबह के साढ़े छह बजते ही मेरे स्मार्ट फोन का अलार्म बजने लगा और मेरी नींद टूट गई /सूरज का मंद प्रकाश खिड़कियों से आकर घर को उजाले से भर चुका था / सबसे पहले मैंने अपने बेड के पास ही लगे नाईट लैंप के स्विच को ऑफ किया / फिर सिराहने रखे बोतल से आधा बोतल पानी गटकने के बाद बेड से निचे उतारा और बाथरूम की ओर बढ़ा / सुबह साढ़े सात बजे मुझे ऑफिस के लिए निकलना पड़ता है इसलिए मै साढ़े छह बजे का अलार्म सेट करके बेड पर ही रख देता हूँ / मुझे फ्रेश होने के लिए टॉयलेट में पंद्रह से बीस मिनट तक बैठे रहने की आदत सी बन गई है / मेरे व्यस्ततम जीवन में इस १५ -२० मिनट का बेकार नष्ट हो जाना तब तक अखरता था जब तक मेरे पास स्मार्ट फोन नहीं था / कइयों ने मुझे टॉयलेट में न्यूजपेपर पढ़ने की सलाह दी लेकिन मुझे पेपर लेकर टॉयलेट में बैठने में घिन महशुस होता था / लेकिन जब से स्मार्ट फोन लिया हूँ मेरे इस बेकार नष्ट हो रहे समय का सदुपयोग होने लगा है / मै टॉयलेट में अपने साथ मोबाइल फोन को भी ले जाता हूँ और इस पंद्रह बीस मिनटों में फेशबुक, व्हाट्सऐप , ट्विटर मेलबॉक्स सब चेक कर लेता हूँ / “न्यूज़हंट” पर मुख्य समाचारों को भी दृष्टिपात कर लेता हूँ /मोबाइल फोन हाथ में देखते ही श्रीमती जी की जो खीच-खीच सुनना पड़ता था उससे भी मुक्ति मिल गई है / अब तो २० मिनट की जगह आधे घंटे भी कुमोट पर बैठा रहूँ तो भी नहीं अखरता / मेरे लिए तो मेरा स्मार्ट फोन अब समय बर्बाद करने का नहीं समय का सदुपयोग करने का साधन बन गया है /
आज भी जब मै टॉयलेट में प्रवेश किया तो मेरा मोबाइल फोन मेरे साथ ही था / कुमोट पर बैठते ही रोजाना की तरह की तरह सबसे पहले फेसबुक खोला / १० नोटिफिकेशन थे / इसमें से दो मेरे काम के थे / मेरे पिछली पोस्ट पर एक लाइक और एक कॉमेंट था / कॉमेंट को मैंने लाइक किया और आगे बढ़ा / मित्रों के कुछ पोस्ट थे अधिकांस सुन्दर-सुन्दर तस्बीरों के साथ सुप्रभात , गुड मॉर्निंग जैसे सन्देश ही थे / मै सबको लाइक करते हुए आगे बढ़ रहा था / कुछ सुन्दर महिलाओं और नजदीकी मित्रों को कॉमेंट में मै भी सुप्रभात और गुड मॉर्निंग लिख रहा था / स्क्रॉल करते करते अचानक मेरी नज़र एक पोस्ट पर पड़ी , लिखा था “कृपया इस पोस्ट को इग्नोर मत करना /” मेरी उत्सुकता बढ़ी मैंने कंटिन्यू किया / आगे लिखा था / “इस पोस्ट को लाइक करके कॉमेंट में जय माता दी लिखकर ज्यादा से ज्यादा लोगों में शेयर करें आज आपको कोई अच्छा न्यूज मिलेगा / इग्नोर करने वालों को अनहोनी का सामना करना पड़ सकता है /” निचे बैष्णव देवी का फोटो था / मैंने तुरंत स्क्रॉल करके उस फोटो को स्क्रीन से हटाया और आगे बढ़ गया / मैं धार्मिक प्रवृर्ति का हूँ लेकिन धर्म भीरु नहीं हूँ / मैंने ना तो उस पोस्ट को लाइक किया ना ही कॉमेंट में कुछ लिखा या इसे शेयर किया / फ्रेश होने के बाद ब्रश किया और बाथरूम से बाहर निकला / निकलकर, फोन को चार्ज करने के लिए उसे चार्जर के साथ कनेक्ट किया / फिर ना जाने क्यों मुझे उस पोस्ट को फिर से देखने की इच्छा जागृत हुई / मैंने फेसबुक खोलकर उस पोस्ट को फिर से एकबार देखा / इसे २ घंटे पहले ही मेरे एक फेसबुक मित्र के द्वारा पोस्ट किया गया था / और अब तक इसे ४० लाइक और ३७ कॉमेंट मिल चुके थे / इसे २० लोगों ने शेयर भी कर दिया था / इतनी जल्दी इतने लाइक, कॉमेंट और शेयर तो मेरे किसी भी पोस्ट को नहीं मिले थे / मैंने माता वैष्णवी को मन ही मन प्रणाम किया और उस पोस्ट पर बिना कोई प्रतिक्रिया दिए फोन को चार्ज होने के लिए रख दिया / स्नान करने के पश्चात नित्य की भाँति घर के ही मंदिर में पूजा- अर्चना करने लगा / धूपकाठी जलाकर जब माता दुर्गा को दिखा रहा तो अचानक उस पोस्ट में लिखे शब्द मेरी आँखों के सामने नाचने लगे / ” इस पोस्ट को लाइक करके कॉमेंट में जय माता दी लिखकर ज्यादा से ज्यादा लोगों में शेयर करें आज आपको कोई अच्छा न्यूज मिलेगा /” हालांकि मुझे कई दिनों से कुछ अच्छा न्यूज पाने का इंतज़ार था फिर भी मैंने इसे बकवास समझ कर कोई प्रतिक्रिया नहीं दिखाई / लेकिन जैसे ही मुझे बाद का लाइन याद पड़ा जिसमे लिखा गया था ” इग्नोर करने वालों को अनहोनी का सामना करना पड़ सकता है /” ने मुझे परेशान कर दिया / अनहोनी की कल्पना ने मुझ जैसे मजबूत ह्रदय वालों को भी कमजोर बना दिया / जल्दी- जल्दी पूजा समाप्त करके ऑफिस जाने के लिए तैयार होने लगा लेकिन पोस्ट के अंतिम कुछ शब्द मुझे अब तक परेशान कर रहे थे / कभी सोचता यह पब्लिसिटी स्टंट है / मुझे झांसे में नहीं आना चाहिए / फिर अनहोनी की संभावना भी मुझे उस पोस्ट को लाइक, कॉमेंट और शेयर के लिए उकसाने लगती / बड़ी अजीबोगरीब स्थिति मेरे सामने उत्पन्न हो गई थी /
खाने के टेबल पर नाश्ता लगाकर श्रीमती जी मेरा इंतजार कर रही थी / नाश्ता के लिए टेबल पर बैठकर भी मै उसी उहा-पोह में पड़ा था की मुझे इसे अन्धविश्वास मानकर इग्नोर कर देना चाहिए या फिर पोस्ट में कही गई बात को सच मानकर विश्वास कर लेना चाहिए / कहते है की अपनो के साथ परेशानियों को बांटने पर परेशानिया काम होती है / और उस खाने के टेबल पर मेरी सबसे करीबी साथी मेरी स्त्री मेरे साथ ही बैठी थी / मैंने नाश्ता करते करते इस पोस्ट की घटना को श्रीमती जी को सुनाया / उसने कहा तो कर दो ना / कर देने में क्या जाता है /
मैंने कहा-” मुझे प्रतिक्रिया देने से कोई आपत्ति नहीं है / लेकिन इससे मेरी धर्म के प्रति कमजोरी प्रदर्शित होगी / धर्म के प्रति ऐसी ही कमजोरी का कुछ लोग फ़ायदा उठाकर ठगी करते है और धर्म बदनाम होता है /” अपने श्रीमती जी परेशानी शेयर करने के बाद में स्वयं को कुछ हल्का महसूस कर रहा था / इसलिए
मैंने पोस्ट पर कोई भी प्रतिक्रिया नहीं देने का दृढ निश्चय कर लिया / मैंने अपने स्कूल के किताब में पढ़ा था की ” दृढ संकल्प से दुबिधा की बढ़िया काट जाती है /” मेरी भी दुबिधा की बेड़ियाँ कट चुकी थी /
लेकिन औरते स्वभाव से ही धर्म के प्रति काफी भीरु होती है / श्रीमती जी भी जिद पर उतारू हो गई / कहने लगी ” मेरी बात मानो जैसा लिखा है वैसा कर दो / नहीं करने से यदि कुछ अनहोनी हो गई तो बाद में पछताना पडेगा / ऐसे भी अपने दिन-काल कुछ अच्छे नहीं चल रहे / तुम्हे बात मान लेने से यदि कुछ अच्छा हो गया तो क्या खराबी है /”
मैंने उसे समझाना चाहा -” ऐसा कुछ नहीं होता / लोग अपनी पोस्ट को प्रचार दिलवाने के लिए ऐसा करते है /”
श्रीमती जी भी जिद पर अड़ गई और कहने लगी ” यदि तुम नहीं करते तो दो मैं कर देती हूँ /” इतना कहते -कहते वह मेरे हाथ से फोन लेने के लिए अपना हाथ बढाई/ अब जाकर मुझे झुकना ही पड़ा / मैंने पहले उस पोस्ट को शेयर किया फिर अपने शेयर किये पोस्ट को लाईक और कॉमेंट में लिख दिया -“कृपया ऐसे पोस्ट सेयर करके लोगों के धार्मिक भावनाओं का खिल्ली ना उड़ाया जाय /”
062

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग