blogid : 14057 postid : 1117556

सहिष्णुता-असहिष्णुता

Posted On: 27 Nov, 2015 Others में

मेरी आवाज़ सुनोभारत माता के चरणों में समर्पित मेरी रचनाएँ

Rajesh Kumar Srivastav

104 Posts

421 Comments

चलो हम सब मिलकर –
सहिष्णुता-असहिष्णुता की खेल को –
ख़त्म कर डाले /
तू मेरे सीने से लिपटो ,
हम तुम्हे गले लगा डाले /
तू हमारे और हम तुम्हारे –
भावनाओं का रखें ख्याल /
बन गई जो दूरियाँ –
उसे सिमटा डाले /
तू मेरे सीने से लिपटो ,
हम तुम्हे गले लगा डाले /
अब न कोई सेंक सके रोटी –
हमारी भावनाओं की-
जलाकर आग /
राजनितिक मुहरा बनने से,
चलो एक दूसरे को बचा डाले /
तू मेरे सीने से लिपटो ,
हम तुम्हे गले लगा डाले /
जिसके गर्भ से जन्मा है –
सैकड़ों जाती, धर्म, संप्रदाय,
जिसके प्यार से पला है –
बढ़ा है , फैला है पूरा संसार /
उस माँ भारती का दामन –
दाग से बचा डाले /
तू मेरे सीने से लिपटो ,
हम तुम्हे गले लगा डाले /

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग