opera
blogid : 2638 postid : 1212759

धर्म

Posted On: 26 Jul, 2016 Others में

Raj KumarJust another weblog

Raj

97 Posts

29 Comments

धर्म क्या है?
धर्म किसी खास व्यक्तियों के द्वारा स्थापित सिद्धांतों एवं नियमों से ज्यादा कुछ नहीं है ।
धर्म के इतने रूप क्यों है?
समय-समय पर किसी विशेष धर्म में आए असंतुष्टी के कारण किसी खास व्यक्ति के द्वारा नई धर्म की स्थापना के कारण आज हम धर्म के अनगिनत रूप देखते हैं ।
धर्म से हमें क्या लाभ है?
धर्म हमें आपस में संगठित करता है और किसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए आत्मबल प्रदान करता है ।
धर्म से नुकसान क्या है?
कुछ धर्म, दूसरे धर्म को हेय की दृष्टि से देखते हैं, जिसके कारण दो या दो से अधिक समुदायों के बीच संघर्ष की स्थिति पैदा होते हैं ।
श्रेष्ठ धर्म कौन-सा है?
जो धर्म हमें दूसरों के प्रति सम्मान, दया, करुणा जैसे भावों से भरते हैं वही धर्म श्रेष्ठ है ।
हमें किस धर्म को अपनाना चाहिए?
जो धर्म हमें मानवप्रेमी, कर्मयोगी, प्रकृतिप्रेमी बनाए ऐसे धर्म को अपनाना चाहिए ।
स्थापित धर्मों में सुधार किया जा सकता है?
अगर स्थापित धर्मों में कोई बुराई है तो उसे त्याग कर उसमें सुधार किया जा सकता है ।
धर्म का वास्तविक उद्देश्य क्या होना चाहिए?
धर्म का वास्तविक उद्देश्य परिवार कल्याण, समाज कल्याण, विश्व कल्याण एवं प्रकृति कल्याण होना चाहिए ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग