blogid : 2222 postid : 721005

ऋतुराज फागुन लाया है

Posted On: 22 Mar, 2014 Others में

MERI NAJARJust another weblog

rameshbajpai

78 Posts

1604 Comments

    सघन कुंतल मेघ से कारे ,सहज ही मन चुराते है |

    माथे में जड़ी बिंदिया ,कि तारे झिलमिलाते है |

    अर्ध चन्द्राकार भौहे , पलक को जब उठाती है |

    बक्र होकर आँखे तब , बाण तीखे चलाती है |

    अधर रस से लिपट कर , शब्द जब निकलते है |

    सुर बीणा के तब सातो ,एक साथ बजते है |

    कपोलो की अरुन आभा , हाय कितनी सुनहरी है |

    कंचना कटि रुचिकर , नाभि भंवर सी गहरी है |

    मोरनी सी चाल पर कटि ,इस तरह बल खाती है |

    समंदर से लहर जैसे ,किनारे चल कर आती है |

    चालीस साल से मैं ,जिस अदा का घायल हू |

    रूपसी उस बंकु चितवन का मैं आज भी कायल हू |

    प्रणय की मधुर बेला ,प्रणय का पर्व आया है |

    बासंती हवाए साथ लेकर ,ऋतुराज फागुन लाया है |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग